197 ऋषि प्रसादः मई 2009

सांसारिक, आध्यात्मिक उन्नति, उत्तम स्वास्थ्य, साँस्कृतिक शिक्षा, मोक्ष के सोपान – ऋषि प्रसाद। हरि ओम्।

ज्ञानमयी दृष्टि


पूज्य बापू जी के सत्संग-प्रवचन से जगत कैसा है ? पहले देखो, आपके मन का भाव कैसा है ? जैसा आपका भाव होता है, जगत वैसा ही भासित होता है । सुर (देवत्व का) का भाव होता है तो आप सज्जनता का, सदगुण का नजरिया ले लेते हैं और आसुरी भाव होता है तो आप …

Read More ..

ऐसा साधक जल्दी सफल हो जाता है – पूज्य बापू जी


तुम ईश्वर के रास्ते चलते हो और अनुकूलता आने लग जाय तो यह तो थोड़ी-बहुत सफलता हुई लेकिन अगर प्रतिकूलता आती है तो समझो कि ईश्वर के रास्ते तुम्हारी यात्रा तेजी से होने वाली है । जिसको वो इश्क करता है, उसी को आजमाता है । खजाने रहमत के, इसी बहाने लुटाता है ।। जिस …

Read More ..

अब तुम भी थोड़ा पुरुषार्थ करो


पूज्य बापू जी के सत्संग प्रवचन से कई लोग फरियाद करते हैं कि ध्यान नहीं लगता । क्यों नहीं लगता ? क्योंकि हम संसार में रहकर, संसार के होकर भगवान का ध्यान करना चाहते हैं । हकीकत में हम भगवान के होकर और भगवान में ही बैठकर भगवान का ध्यान करें तो भगवान का ध्यान …

Read More ..