ऋषि प्रसाद

सांसारिक, आध्यात्मिक उन्नति, उत्तम स्वास्थ्य, साँस्कृतिक शिक्षा, मोक्ष के सोपान – ऋषि प्रसाद। हरि ओम्।

जैसा अधिकारी वैसा मार्गदर्शन


http://www.hariomgroup.info/hariomaudio_satsang/Title/2019/Mar/Jaisa-Adhikari-Vaisa-Margdarshan.mp3 जब तक गुणों के सुख की आवश्यकता है तब तक वेद के अर्थ को अथवा वेद ने बताए हुए कर्मों को हम करते है । अर्जुन की योग्यता बढ़ गई थी तो श्रीकृष्ण ने देखा कि अर्जुन अन्नमय कोष में नहीं  है,   प्राणमय कोष में भी नहीं, मनोमय कोष में भी नहीं, अर्जुन की …

Read More ..

मूर्ख शिरोमणियों की खोज


एक राजा ने अपने महामंत्री को आदेश दियाः “जाओ, अपनी जनता में जो दो सबसे बड़े मूर्ख हों, उन्हें दरबार में लाओ । उन मूर्खों को ‘मूर्ख शिरोमणि’ की उपाधि देंगे ।” मंत्री महामूर्खों की तलाश में लग गया । कुछ दिन बाद वह दरबार में आया । उसको अकेले देखकर राजा ने पूछाः “मंत्री …

Read More ..

जीवन को सफल बनाने वाले सीता जी के 12 दिव्य गुण


श्री सीता नवमीः 13 मई 2019 पद्म पुराण (भूमि खंड, अध्याय 34) में स्त्री के जिन 12 दिव्य गुणों का वर्णन आता है, वे सारे-के-सारे सद्गुण सीता जी में थे। स्त्री का पहला सद्गुण है रूप । अपने रूप को साफ-सुथरा और प्रसन्नवदन रखना चाहिए, कृत्रिमता (फैशन) की गुलामी नहीं करनी चाहिए । सीता जी …

Read More ..