Satsang

Satsang

अनुभव न होने के तीन कारण


जिन चीजों को महत्व नही देना चाहिए उन चीजों को महत्व दे रखा है। जिन कर्मों को महत्व नही देना चाहिए उन कर्मों को महत्व दे रखा है। जिस व्यवहार को महत्व कम देना चाहिए उसको हमने अधिक दे रखा है इसलिए हमारा इन्द्रियाँ मन और बुद्धि परमात्मा में स्थिर नही हो पाती। ध्यान से …

Read More ..

सब कामों को छोड़ दो


भगवद्गीता के दूसरे अध्याय का श्लोक है विहाय कामान् यः सर्वान् पुमांश्चरति निःस्प्रहः। निर्ममो निरहंकारः स शान्तिमधिगच्छति।। जो पुरुष संपूर्ण कामनाओं को त्यागकर ममता रहित , अहंकार रहित और स्पृहा रहित होकर विचरता है वही शांति को प्राप्त होता है। अष्टावक्र जनक को कहते है, श्रीकृष्ण अर्जुन को कह रहे है।अष्टावक्र कहते है – ममता …

Read More ..

अपनी पकड़ ही दुःख देती है


http://media.ashram.org/hariomaudio_satsang/Title/2019/Dec/Apni-Pakad-Hi-Dukh-Deti-Hai.mp3 जैसे एक आदमी स्वप्न देखता है तो उसके स्वप्ने में दूसरा आदमी प्रविष्ट नही होता है।उसके स्वप्ने में दूसरा आदमी तब प्रविष्ट होता है जब दोनों के सुने हुए संस्कार एक जैसे हो। ठीक,मूर्ख आदमियों के साथ हम लोग जीते है, संसार के दल-दल में फँसे हुए पैसों के गुलाम,इन्द्रियों के गुलाम…लोगों के बीच …

Read More ..