Tag Archives: Sant Kabir Jayanti

सत्शिष्य फैलाते सद्गुरु का ज्ञानप्रकाश


 

(संत कबीर जयंतीः 20 जून 2016)

हृदय की बात जानने वाला सत्शिष्य

पंचगंगा घाट पर सभी संत आध्यात्मिक चर्चा कर रहे थे। अंदर गुफा में बैठ के स्वामी रामानंद जी मानसिक पूजा कर रहे थे। वे पूजा की सभी सामग्री एकत्र कर नैवेद्य आदि सब चढ़ा चुके थे। चंदन मस्तक पर लगाकर मुकुट भी पहना चुके थे परंतु माला पहनाना रह गया था। मुकुट के कारण माला गले में जा नहीं रही थी। स्वामी जी कुछ सोच रहे थे।

इतने में रामानंद जी के शिष्य कबीर जी को गुरुदेव के हृदय की बात मालूम पड़ गयी और वे बोल उठेः “गुरुदेव ! माला की गाँठ को खोल कर फिर उसे गले में बाँध दिया जाय।”

कबीर जी की युक्तिभरी बात सुनकर रामानंद जी चौंके कि ‘अरे, मेरे हृदय की बात कौन जान गया ?’ स्वामी जी ने वैसा ही किया। परंतु जो संत बाहर कबीर जी के पास बैठे हुए थे, उन्होंने कहा कि “कबीर जी ! बिना प्रसंग के आप क्या बोल रहे हैं ?”

कबीर जी ने कहाः “ऐसे ही एक प्रसंग आ गया था, बाद में आप लोगों को ज्ञात हो जायेगा।”

पूजा पूरी करने के बाद रामानंद जी गुफा से बाहर आये, बोलेः “किसने माला की गाँठ खोलकर पहनाने के लिए कहा था ?”

सभी संतों ने कहाः “कबीर जी ने अकस्मात् हम लोगों के सामने उक्त बातें कही थीं।”

रामानंद जी का हृदय पुलकित हो गया और अपने प्यारे शिष्य कबीर जी को छाती से लगाते हुए बोलेः “वत्स ! तुमने मेरे हृदय की बात जान ली। मैं तुम्हारी गुरुभक्ति से संतुष्ट हूँ। तुम मेरे सत्शिष्य हो।”

गुरुदेव का आशीर्वाद व आलिंगन पाकर कबीर जी भावविभोर हो गये और गुरुदेव के श्रीचरणों में साष्टांग प्रणाम करके बोलेः “प्रभो ! यह सब आपकी महती अनुकम्पा का फल है। मैं तो आपका सेवक मात्र हूँ।”

इस प्रकार कबीर जी पर गुरु रामानंद जी की कृपा बरसी और वे ब्रह्मज्ञानी महापुरुष हो गये।

अग्राह्य को भीतर से बाहर निकालो !

कबीर जी ब्रह्मज्ञान का अमृत लुटाने हेतु देशाटन करते थे। एक बात कबीर जी अरब देश पहुँचे। वहाँ इस्लाम धर्म के एक प्रसिद्ध सूफी संत जहाँनीगस्त रहते थे। कबीर जी ने उनका बड़ा नाम सुना तो उनसे मिलने पहुँचे परंतु फकीर ने अपनी महानता के अहंकार के वशीभूत होकर कबीर जी से मुलाकात नहीं की।

उन फकीर ने सिद्धियाँ तो प्राप्त कर ली थीं परंतु आत्मज्ञान न होने से अहंकार दूर नहीं हुआ था। एक दिन फकीर को रात्रि में स्वप्न आया कि ‘किन्हीं हयात महापुरुष के दर्शन सत्संग के बिना तुम्हारा अज्ञान दूर नहीं होगा। अतः भारत में जाओ और संत कबीर जी के दर्शन करो।’

जहाँनीगस्त फकीर ने पूछाः “कौन कबीर ?”

‘भारत के कबीर, जिन्होंने सिकंदर लोदी को पराजित किया है और जो तुमसे मिलने आये थे परंतु तुमने अहंकारवश उनसे मुलाकात नहीं की।’

सुबह उठते ही फकीर स्वप्न की बात पर चिंतन करने लगे कि ‘मैं कबीर जी को पहचान न सका। ऐसे महापुरुष मेरे द्वार पर आये और मैंने उनका अपमान कर दिया। इसलिए अल्लाह की ओर मुझे आज यह आदेश हुआ है। अब मैं कबीर जी का दर्शन अवश्य करूँगा।’ ऐसा निश्चय करके जहाँनीगस्त अरब से चल पड़े। इधर कबीर जी पहले ही जान गये कि जहाँनीगस्त आ रहे हैं तो उनके बैठने के लिए आसन की व्यवस्था करा दी। साथ ही उन्होंने आश्रम के सामने एक सूअर बँधवा दिया।

फकीर कबीर जी के आश्रम के निकट पहुँचे। दूर से ही सूअर देखकर उनके मन में घृणा हुई कि ‘कबीर जी सूअर को क्यों बाँधे हुए हैं ? वे तो संत हैं, उनको इससे दूर रहना चाहिए।’ इस  प्रकार तर्क वितर्क कर लौटने का विचार करने लगे। संत कबीर जी उनको मनोभाव को जान गये, बोलेः “संत जी ! आइये, क्यों इतनी दूर से आकर वहाँ रुक गये हो ?”

वे कबीर जी के पास आये। थोड़ा विश्राम व भोजन के बाद कबीर जी के साथ सत्संग की चर्चा होने लगी। जहाँनीगस्त ने कबीर जी से पूछाः “आप बहुत बड़े संत-महापुरुष हैं  परंतु आपने इस अग्राह्य को क्यों ग्रहण किया है ?”

कबीर जी बोलेः “जहाँनीगस्त जी ! मैंने अपने अग्राह्य को भीतर से बाहर कर दिया है परंतु आप अभी उसको भीतर ही रखे हुए हैं।”

“मैं कुछ समझा नहीं !”

“मैंने  भेदबुद्धिरूपी सूअर को भीतर से निकाल कर बाहर बाँध दिया है परंतु आप उसे अपने अंदर रखे हुए हैं और इस पर भी आप पवित्र बनते हैं। इस सूअर को आप अपने अंदर छिपाकर रखे हुए हैं।”

यह सुनते ही फकीर का सारा भ्रम दूर हो गया। कबीर जी के सत्संग से उनकी अविद्या (जगत को सत्य मानना व अद्वैत परमात्मा को न जानना), अस्मिता (देह को मैं मानना), राग, द्वेष और अभिनिवेश (मृत्यु का भय) अलविदा हो गये।

जिधर देखता हूँ खुदा ही खुदा है।

खुदा से नहीं चीज कोई जुदा है।।

जब अव्वल व आखिर खुदा ही खुदा है।।

तो अब भी वही, कौन इसके सिवा है।।

जिसे तुम समझते हो दुनिया ऐ गाफिल1।।

यह कुल हक2 ही हक, नै जुदा नै मिला है।।

1 अज्ञानी 2 सत्यस्वरूप परमात्मा

स्रोतः ऋषि प्रसाद, मई 2016, पृष्ठ संख्या 18,19 अंक 281

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ