Tag Archives: Sharad Poornima

The Wealth-Giving Sharad/Kojagar Purnima Fast


 

(Sharad/Kojagari Purnima)

The Kojagar vrata falls on the full moon day of the month of Aashwina. One should take a bath in the appropriate manner, observe a fast and maintain complete continence on this day. If one can afford it, a gold-idol of Goddess Laxmi, adorned in proper clothing, should be installed on an earthen or copper pitcher and then worshipped in the manner prescribed by the scriptures. In the evening, after moonrise, one should light one hundred gold, silver or earthen lamps using ghee. Then one should prepare plenty of Khir mixed with ghee and sugar. The Khir should be poured into several vessels and exposed to the moonlight. After exposing the Khir to the moonlight for three hours, one should offer it to Goddess Laxmi. Then the Khir should be served with due reverence to pious Brahmins. One should remain awake that night engaged in singing devotional songs and other auspicious activities. In the morning one should take a bath and offer the gold-idol of Goddess Laxmi to a preceptor.

On this day Goddess Laxmi moves around the world at midnight, with boons and assurance of protection, resolving, ?Who is awake on earth? I will grant wealth to one who is awake worshiping me at this hour.?

This vrata is observed every year and it pleases Goddess Laxmi immensely. Propitiated with this fast, Goddess Laxmi grants one prosperity in this world and a supremely elevated state in the next.

-(Narada Purana)

अमृतवर्षा की रात्रि : शरद पूर्णिमा


कामदेव ने भगवान श्रीकृष्ण से कहा कि “हे वासुदेव ! मैं बड़े-बड़े ऋषियों, मुनियों तपस्वियों और ब्रह्मचारियों को हरा चुका हूँ। मैंने ब्रह्माजी को भी आकर्षित कर दिया। शिवजी की भी समाधि विक्षिप्त कर दी। भगवान नारायण ! अब आपकी बारी है। आपके साथ भी मुझे खिलवाड़ करना है तो हो जाय दो-दो हाथ ?”

भगवान श्रीकृष्ण ने कहाः “अच्छा बेटे ! मुझ पर तू अपनी शक्ति का जोर देखना चाहता है ! मेरे साथ युद्ध करना चाहता है !तो बता, मेरे साथ तू एकांत में आयेगा कि मैदान में आयेगा ?”
एकांत में काम की दाल नहीं गली तो भगवान ने कहाः “कोई बात नहीं। अब बता, तुझे किले में युद्ध करना है कि मैदान में? अर्थात् मैं अपनी घर-गृहस्थी में रहूँ, तब तुझे युद्ध करना है कि जब मैं मैदान में होऊँ तब युद्ध करना है ?”
बोलेः महाराज ! जब युद्ध होता है तो मैदान में होता है। किले में क्या करना !
भगवान बोलेः “ठीक है, मैं तुझे मैदान दूँगा। जब चन्द्रमा पूर्ण कलाओं से विकसित हो, शरद पूनम की रात हो, तब तुझे मौका मिलेगा। मैं ललनाएँ बुला लूँगा।”
शरद पूनम की रात आयी और श्रीकृष्ण ने बजायी बंसी। बंसी में श्रीकृष्ण ने ‘क्लीं’ बीजमंत्र फूँका। क्लीं बीजमंत्र फूँकने की कला तो भगवान श्रीकृष्ण ही जानते हैं। यह बीजमंत्र बड़ा प्रभावशाली होता है।
श्रीकृष्ण हैं तो सबके सार और अधिष्ठान लेकिन जब कुछ करना होता है न, तो राधा जी का सहारा ढूँढते हैं। राधा भगवान की आह्लादिनी शक्ति माया है।
भगवान बोलेः “राधे देवी ! तू आगे-आगे चल। कहीं तुझे ऐसा न लगे कि ये गोपिकाओं में उलझ गये, फँस गये। राधे ! तुम भी साथ में रहो। अब युद्ध करना है। काम बेटे को जरा अपनी विजय का अभिमान हो गया है। तो आज उसके साथ दो दो हाथ होने हैं। चल राधे तू भी।”
भगवान श्रीकृष्ण ने बंसी बजायी, क्लीं बीजमंत्र फूँका। 32 राग, 64 रागिनियाँ… शरद पूनम की रात… मंद-मंद पवन बह रहा है। राधा रानी के साथ हजारों सुंदरियों के बीच भगवान बंसी बजा रहे हैं। कामदेव ने अपने सारे दाँव आजमा लिये। सब विफल हो गया।
भगवान श्रीकृष्ण ने कहाः
“काम ! आखिर तो तू मेरा बेटा ही है !”
वही काम भगवान श्रीकृष्ण का बेटा प्रद्युम्न होकर आया।
कालों के काल, अधिष्ठानों के अधिष्ठान तथा काम-क्रोध, लोभ मोह सबको सत्ता-स्फूर्ति दने वाले और सबसे न्यारे रहने वाले भगवान श्रीकृष्ण को जो अपनी जितनी विशाल समझ और विशाल दृष्टि से देखता है, उतनी ही उसके जीवन में रस पैदा होता है।
मनुष्य को चाहिए कि वह अपने जीवन के विध्वंसकारी, विकारी हिस्से को शांति, सर्जन और सत्कर्म में बदल के, सत्यस्वरूप का ध्यान् और ज्ञान पाकर परम पद पाने के रास्ते सजग होकर लग जाये तो उसके जीवन में भी भगवान श्रीकृष्ण की नाईं रासलीला होने लगेगी। रासलीला किसको कहते हैं ? नर्तक तो एक हो और नाचने वाली अनेक हों, उसे रासलीला कहते हैं। नर्तक एक परमात्मा है और नाचने वाली वृत्तियाँ बहुत हैं। आपके जीवन में भी रासलीला आ जाय लेकिन श्रीकृष्ण की नाईं नर्तक अपने स्वरूप में, अपनी महिमा में रहे और नाचने वाली नाचते-नाचते नर्तक में खो जायें और नर्तक को खोजने लग जायें और नर्तक उन्हीं के बीच में, उन्हीं के वेश में छुप जाय-यह बड़ा आध्यात्मिक रहस्य है।
ऐसा नहीं है कि दो हाथ-पैरवाले किसी बालक का नाम कृष्ण है। यहाँ कृष्ण अर्थात् कर्षति आकर्षति इति कृष्णः। जो कर्षित कर दे, आकर्षित कर दे, आह्लादित कर दे, उस परमेश्वर ब्रह्म का नाम ‘कृष्ण’ है। ऐसा नहीं सोचना कि कोई दो हाथ-पैरवाला नंदबाबा का लाला आयेगा और बंसी बजायेगा तब हमारा कल्याण होगा, ऐसा नहीं है। उसकी तो नित्य बंसी बजती रहती है और नित्य गोपिकाएँ विचरण करती रहती हैं। वही कृष्ण आत्मा है, वृत्तियाँ गोपिकाएँ हैं। वही कृष्ण आत्मा है और जो सुरता है वह राधा है। ‘राधा’….. उलटा दो तो ‘धारा’। उसको संवित्, फुरना और चित्तकला भी बोलते हैं।
काम आता है तो आप काममय हो जाते हो, क्रोध आता है तो क्रोधमय हो जाते हो, चिंता आती है तो चिंतामय हो जाते हो, खिन्नता आती है तो खिन्नतामय हो जाते हो। नहीं,नहीं। आप चित्त को भगवदमय बनाने में कुशल हो जाइये। जब भी चिंता आये तुरंत भगवदमय। जब भी काम, क्रोध आये तुरंत भगवदमय। यही तो पुरुषार्थ है। पानी का रंग कैसा ? जैसा मिलाओ वैसा। चित्त जिसका चिंतन करता है, जैसा चिंतन करता है, चिदघन चैतन्य की वह लीला वैसा ही प्रतीत कराती है। दुश्मन की दुआ से डर लगता है और सज्जन की गालियाँ भी मीठी लगती हैं। चित्त का ही तो खेल है ! भगवदभाव से प्रतिकूलताएँ भी दुःख नहीं देतीं और विकारी दृष्टि से अनुकूलता भी तबाह कर देती है। विकारी दृष्टि विकार और विषाद में गिरा देती है।

Sharad Poornima


 

Sharad Poornima, also known as Kojaagari Poornima, is celebrated on a full moon day of the Hindu lunar month of Ashwin (September-October). It is also known as Kaumudi (moonlight) celebration, as on this day, the Moon showers amrit or elixir of life on earth through its rays. The brightness of the full moon brings special joy and marks the changing season, the end of the monsoon. It was also on this night over 5,000 years ago that Lord Krishna and Radhaji revealed the Supreme Divine bliss to innumerable Gopis in Vrindavan.

Medical Significance:

It is considered that the Moon and the Earth are at a closer distance on Sharad Poornima night. Due to this, the rays of the moon have several curative properties. Keeping food under the moonlight nourishes both the body and the soul. Following are some health tips which we all can benefit from during Sharad Poornima.

For Happiness & Good Health All the Year round :

On Sharad Poonam, make kheer of Rice, Milk, Mishri in the evening. Put some gold or silver for sometime while making Kheer; then place it in the Moonlight for about 2-3 hours from about 8:30 PM onwards. Don’t cook any other food for that night, only eat Kheer. We should not take heavy diet in late night, hence eat Kheer accordingly. The Kheer which is placed in Sharad Poonam night can also be taken in next day break-fast after making it asPrasad by offering it to the Lord.

Tips for Improving Eyesight :

Do Tratak on Moon for 15-20 minutes in the night from Dussehra to Sharad Poornima. To look with a constant gaze without blinking the eye lids, is called Tratak.

To be free from Eye troubles & for eyes to work properly whole year, try to put thread in a needle in Sharad Poonam Moonlight. (No other light should be nearby).

Do Jaagran on Sharad Poonam Night :

Sharad Poonam Night is very beneficial for spiritual upliftment, hence one should try & do Jaagran on this night, i.e. as possible don’t sleep and do JapDhyan Kirtan on this holy night.