आत्मसाक्षात्कार दिवस

पूर्ण गुरुकृपा मिली पूर्ण गुरु का ज्ञान ....

Atmasakshatkar Divas

आसोज सुद दो दिवस, संवत् बीस इक्कीस।
मध्याह्न ढाई बजे, मिला ईस से ईस।।
देह सभी मिथ्या हुई, जगत हुआ निस्सार।
हुआ आत्मा से तभी, अपना साक्षात्कार।।

Aasoj-sud Dwitiya samvat bees ikkees was the blessed day when, by assimilating the Gyan of His Guru, Pujya Sant Shri Asharamji Bapu became one with the Supreme; transcended the carnal world to enter into the realm of the Eternal, infinite Brahma.
Across the world, His disiciples celebrate this day by organizing Kirtan-Yatras, Bhandaras, Satsang, Daridranarayan Seva, and much more...

भगवान के दर्शन से भी ऊँचा

- (पूज्य बापू जी के सत्संग प्रवचन से)

आत्मसाक्षात्कार करना ही मनुष्य जीवन का एकमात्र उद्देश्य है। जीव, जगत (स्थूल जगत, सूक्ष्म जगत) और ईश्वर – ये सब माया के अन्तर्गत आते हैं। आत्मसाक्षात्कार माया से परे है। जिसकी सत्ता से जीव, जगत, ईश्वर दिखते हैं, उस सत्ता को मैं रूप से ज्यों का त्यों अनुभव करना, इसका नाम है आत्मसाक्षात्कार। जन्मदिवस से भी हजारों गुना ज्यादा महत्त्वपूर्ण होता है। आत्मासाक्षात्कार दिवस। भगवान कहते हैं-

मनुष्याणां सहस्रेषु कश्चिद्यतति सिद्धये।
यततामपि सिद्धानां कश्चिन्मां वेत्ति तत्त्वतः।।

हजारों मनुष्यों में कोई विरला सिद्धि के लिए यत्न करता है और उन सिद्धों में से कोई विरला मुझे तत्वतः जानता है।

आत्मसाक्षात्कार को ऐसे कोई विरले महात्मा ही पाते हैं। योगसिद्धि, दिव्य दर्शन, योगियों का आकाशगमन, खेचरी, भूचरी सिद्धियाँ, भूमि में अदृश्य हो जाना, अग्नि में प्रवेश करके अग्निमय होना, लोक-लोकान्तर में जाना, छोटा होना, बड़ा होना इन अष्टसिद्धियों और नवनिधियों के धनी हनुमानजी आत्मज्ञानी श्रीरामजी के चरणों में गये, ऐसी आत्मसाक्षात्कार की सर्वोपरि महिमा है। साधना चाह कोई कितनी भी ऊँची कर ले, भगवान राम, श्रीकृष्ण, शिव के साथ बातचीत कर ले, शिवलोक में शिवजी के गण या विष्णुलोक में जय-विजय की नाईं रहने को भी मिल जाय फिर भी साक्षात्कार के बिन यात्रा अधूरी रहती है।

आज हमारी असली शादी का दिवस है। आज ईश्वर मिलन दिवस, मेरे गुरूदेव का विजय दिवस है, मेरे गुरूदेव का दान दिवस है, गुरूदेव के पूरे बरसने का दिवस है। दूसरी दृष्टि से देखा जाय तो पूरी मानवता के लिए अपने परम तत्त्व को पा सकने की खबर देने वाला दिवस आत्मसाक्षात्कार दिवस है। आज वह पावन दिवस है जब जीवात्मा सदियों की अधूरी यात्रा पूरी करने में सफल हो गया। धरती पर तो रोज करीब डेढ़ करोड़ो लोगों का जन्म दिवस होता है।

शादी दिवस और प्रमोशन दिवस भी लाखों लोगों का हो सकता है। ईश्वर के दर्शन का दिवस भी दर्जनों भक्तों का हो सकता है लेकिन ईश्वर-साक्षात्कार दिवस तो कभी-कभी और कहीं-कहीं किसी-किसी विरले को देखने को मिलता है। जो लोक संत हैं और प्रसिद्ध हैं उनके साक्षात्कार दिवस का तो पता चलता है, बाकी तो कई ऐसे आत्मारामी संत हैं जिसका हमको आपको पता ही नहीं। ऐसे दिवस पर कुछ न करें तब भी वातावरण में आध्यात्मिकता की अद्भुत तरंगें फैलती रहती हैं।

आसोज सुद दो दिवस, संवत बीस इक्कीस।
मध्याह्न ढाई बजे, मिला ईस से ईस।।

देह मिथ्या हुई पढ़ते तो हो, बोलते तो हो लेकिन देह कौनसी, पता है जो दिखती है वह स्थूल देह है, इसके अंदर सूक्ष्म देह है। विष्णुभक्त होगा तो विष्णुलोक में जायगा, तत्त्वज्ञान नहीं है तो अभी देह मिथ्या नहीं हुई। अगर पापी है तो नरकों में जायेगा फिर पशुयोनि में आयेगा, पुण्यात्मा है तो स्वर्ग में जायेगा फिर अच्छे घर में आयेगा, लेकिन अब न आना न जाना, अपने आपमें व्यापक हो जाना है। जब तत्त्व ज्ञान हो गया तो देह और आकृति का अस्तित्व अंदर टिकाने वाला शरीर मिथ्या हो गया। स्थूल शरीर, सूक्ष्म शरीर और कारण शरीर सारे बाधित हो गये। जली हुई रस्सी देखने में तो आती है लेकिन उससे आप किसी को बाँध नहीं सकते। ऐसे ही जन्म जन्मांतरों की यात्रा का कारण जो अज्ञान था, वह गुरु की कृपादृष्टि से पूरा हो गया (मिट गया)। जैसे धान से चावल ले लिया भूसी की ऐसी-तैसी, केले से गूदा ले लिया फिर केले के छिलके को तुम कैसे निरर्थक समझते हो, ऐसे ही शरीर होते हुए भी-

देह सभी मिथ्या हुई, जगत हुआ निस्सार।
हुआ आत्मा से तभी, अपना साक्षात्कार।।

आज तो आप लोग भी मुझे साक्षात्कार-दिवस की खूब मुबारकबादी देना, इससे आपका हौसला बुलंद होगा। जैसे खाते पीते, सुख-दुःख, निंदा स्तुति के माहौल से गुजरते हुए पूज्यपाद भगवत्पाद श्री श्री लीलाशाहजी बापू, रामकृष्ण परमहंस, रमण महर्षि अथवा तो और कई नामी-अनामी संत समत्वयोग की ऊँचाई तक पहुँच गये, साक्षात्कार कर लिया, ऐसे ही आप भी उस परमात्मा का साक्षात्कार कर सकते हैं, ऐसे ही साक्षात्कारी पुरूषों के इस पर्व को समझने सुनने से आत्मचाँद की यात्रा करने का मोक्षद्वार खुल जाता है।

मनुष्य तू इतना छोटा नहीं कि रोटी, कपड़े मकान, दुकान या रूपयों में ही सारी जिंदगी पूरी कर दे। इन छूट जाने वाली असत् चीजों में ही जीवन पूरा करके अपने साथ अन्याय मत कर। तू तो उस सत्स्वरूप परमात्मा के साक्षात्कार का लक्ष्य बना। वह कोई कठिन नहीं है, बस उससे प्रीति हो जाये।

असत् पदार्थों की और दृष्टि रहेगी तो विषमता बढ़ेगी। यह शरीर मिथ्या है, पहले नहीं था, बाद में नहीं रहेगा। धन, पद ये मिथ्या हैं, इनकी तरफ नजर रहेगी तो आपका व्यवहार समतावाला होगा। धीरे धीरे समता में स्थिति आने से आप कर्मयोगी होने में सफल हो जाओगे। ज्ञान के द्वारा सत् असत् का विवेक करके सत् का अनुसंधान करोगे और असत् की आसक्ति मिटाकर समता में खड़े रहोगे तो आपका ज्ञानयोग हो जायगा। बिना साक्षात्कार के समता कभी आ ही नहीं सकती चाहे भक्ति में प्रखर हो, योग में प्रखर हो, ज्ञान का बस भंडार हो लेकिन अगर साक्षात्कार नहीं हुआ तो वह सिद्धपुरूष नहीं साधक है। साक्षात्कार हुआ तो बस सिद्ध हो गया।

इस महान से महान दिवस पर साधकों के लिए एक उत्तम तोहफा यह है कि आप अपने दोनों हाथों की उँगलियों को आमने सामने करके मिला दें। होंठ बंद करके जीभ ऐसे रखें कि न ऊपर लगे न नीचे, बीच में रखें। फिर जीव-ब्रह्म की एकता का संकल्प करके, तत्त्वरूप से जो मौत के बाद भी हमारा साथ नहीं छोड़ता उसमें शांत हो जायें। यह अभ्यास प्रतिदिन करें, कुछ समय श्वासोच्छवास की गिनती करें जिससे मन एकाग्र होने लगेगा, शक्ति का संचय होने लगेगा। धीरे-धीरे इस अभ्यास को बढ़ाते जायेंगे तो तत्त्व में स्थिति हो जायेगी। जीवन की शाम होने के पहले साक्षात्कारी महापुरूषों की कृपा की कुंजी से साक्षात्कार कर लेना चाहिए।

Pujya Bapuji’s self Realization day.

How the gross physical body and the material world can be spiritualized is exemplified by Pujya Bapuji self realization day. Ordinary people throw arteries on their birthdays and delude people pulling the wool of feasting and reveries over their yes. But self Reposed saints like Pujya Bapuji use the occasion of their birthday or self realizing day of both which are celebrated with great adoration by his devotes by engaging their devotes in altruistic actives.

Not only in India butting many other countries of the world Bapuji Ashrams samrits and disciples devotees followers are engaged in serving poor and destitute people these altruistic activates re taken up with added vigor on Pujya Bapuji birthday or self realization day like post years this year to food grins prepared food sweetmeats utensils clothes and cash assistance were distributed amongst the poor and the turban people on the occasion of Bapuji self realization day (9th October) candles and matches were given to them so that they world have some light in their dark cottages. given also were shoes chapels to save their feet damage walking to save their feet from damage walking on stony paths; caps to save their heads form the sun; blankets to save them form cold fruits dates amla churan Chyavanpars etc. to save their debilitated bodes form father maturation mote boos text books, pens pencils school bags etc to remove the badge of illiterate form the foreheads of their children and above all satsnag of self knowledge to bring the radiance of knowledge to the poor and the wealthy poor living of ignorance the great good work continues till this going to print.

Lakhs of people celebrate their birthday, every days. There may be rare instances of same saints celebrating self realization days but some of us world have witnessed self realization day being celebrated on such a massive scales and in such a novel and wonderful way.

Apart form the altruistic mentioned above a number of nationwide and world wide campaigns are being conducted under Bapuji auspices for all round development of people like dead diction programmed yuvadhan surakhsha Adrian environment protection curve children development programmed be Bal sansakar Kendra’s youth development porgramme by youth wing distributions of rishi Parsed for spiritual awakening etc yuva sang the youth wing of the Ashram the sapling of which was panted on Pujya Bapuji self realization day last year has gotten wino a plant and is well it ways to becoming a big tree. Thousands of yogurts across the country have become its member.

The good fortune have Bapuji darshan an satsnag on Pujya Bapuji self realization die this year feel into the lap of the people of pune in the form of a satsang porgramme on 9th and 10th October this pious virtue of forbearance in the form of bearing the long wait for Pujya Bapuji darshan and satsnag was witnessed in the people reacted many delectable and inspiriting incidents of his life. The people of pure were so active and delighted as if seashells always yearning for drop of rain in the swati had torrential rains in that Nakshatra.

The inspiring message Pujya Bapuji gave to the people of pune and to lakhs of disciples listening to satsnag on the website and telephone was on follows;

If these are tow ponds of nectarine water and the boundary mound between then is broken as it append on 2nd day of the month of asoj water of one pond can not be distingualished form the other. If tow lamps are lit in a room the light onramp cannot be differential form of the other. Similarly our turn self the Brahman are same as gold and god ornaments sea same as gold and gold ornaments sea and its waves etc. The day of realigning true self the days of attaining to the supreme sate 2nd days of the month of Asoj god is far away form us we shall realize him after death this foolishness was destroyed by gurudev he saved me form labors of attuning to god of my choice with the helps of devotion everybody likes god of his choice. A lot of efforts is requested to attain to god of one chose the god of one may be attired but only for while my guru told me not to go in search for the god of my choice. God should be accepted as he is with guru blessing I have known my turn self what you need is only to firmly deice to know yours.

Learn to convert sorrow into joy.
Learns to convert enmity into love.
Learn to convert malice into good will.
Life is short.
Learns the art of attuning to your immolator self with the help of the moral holy.

In the course of pujyashree quiet sojourn at Ahmedabad ashram Pujyashree said in satsang what shall the superficial sensory do to the proceeded of self knowledge and self Bliss ma arati serves lord shiva with all guru god but lord shiva is not attracted even to such parvatiji how can he be impressed by a monkey saving him and dancing before him.

The Maya and sense enjoyments are like monkey those oblivious to their true self and impressed by the illusory world get enamored of Maya. Those reposed in their true self in suchbstnce same a the supreme consciousness find this world much like a dram or a sporting event.

Vedant Shastra

Shri Yoga Vashishtha Maharamayan

  • Ashram & Lucknow Press Book PDFs
  • Audio Paath
  • Audio Satsang

Ashtavakra Gita

  • Sanskrit-Hindi Translation
  • Sanskrit-Roman English Translation
  • English Translation

Brahmramayan

  • Book - by Bhole Baba
  • Audio MP3

Articles

Books

Audios

Videos

Downloads for Seva