ऋषि प्रसाद

सांसारिक, आध्यात्मिक उन्नति, उत्तम स्वास्थ्य, साँस्कृतिक शिक्षा, मोक्ष के सोपान – ऋषि प्रसाद। हरि ओम्।

योगस्थः कुरु कर्माणि…..


अक्ष्युपनिषद् में भगवान सूर्यनारायण सांकृति मुनि से कहते हैं- “असंवेदन अर्थात् आत्मा-परमात्मा के अतिरिक्त दूसरी किसी वस्तु का भान न  हो – ऐसी स्थिति को ही योग मानते हैं, यही वास्तविक चित्तक्षय है । अतएव योगस्थ होकर कर्मों को करो, नीरस अर्थात् विरक्त हो के मत करो ।” इसी सिद्धान्त को सरल शब्दों में समझाते …

Read More ..

अपने में हनुमान जी के गुण धारण करो


श्री हनुमान जयंतीः 19 अप्रैल 2019 कर्म को, भक्ति को योग बनाने की कला तथा ज्ञान में भगवद्योग मिलाने की कला हनुमान जी से सीख लो, हनुमान जी आचार्य हैं । लेकिन जिसके पास भक्ति, कर्म या योग करने का सामर्थ्य नहीं है, बिल्कुल हताश-निराश है तो…. ? ‘मैं भगवान का हूँ, भगवान की शरण …

Read More ..

रामराज्य की स्थापना कैसे हो ?


श्री राम नवमीः 13 व 14 अप्रैल 2019 रामायण का आध्यात्मिक अर्थ बताने वाले संत कहते हैं कि दस इन्द्रियों में रमण करने वाला जो दशरथ ‘जीव’ है, वह कहता है कि “अब इस हृदय-गादी पर जीव का नहीं, राम का राज्य होना चाहिए ।” गुरु बोलते हैं कि “हाँ, करो !” गुरु जब रामराज्य …

Read More ..