ऋषि प्रसाद

सांसारिक, आध्यात्मिक उन्नति, उत्तम स्वास्थ्य, साँस्कृतिक शिक्षा, मोक्ष के सोपान – ऋषि प्रसाद। हरि ओम्।

बात अच्छी न भी लगे लेकिन है 100 % सत्य


जन्म का फल यह है कि परमात्मा का ज्ञान पायें । ‘नौकरी मिल गयी, प्रमोशन हो गया….’ यह सब तुम्हें ठगने का व्यवहार है । परमात्मा के सिवाय किसी भी वस्तु, व्यक्ति में कहीं भी प्रीति की तो अंत में पश्चात्ताप के सिवाय कुछ हाथ नहीं लगेगा । सब धोखा देंगे, देखना । हमारी बात …

Read More ..

सेवा में दृष्टिकोण कैसा हो ?


गीता (17.27) में आता हैः कर्म चैव तदर्थीयं सदित्येवाभिधीयते ।। उस परमात्मा के लिए किया हुआ कर्म ‘सत्’ कहलाता है क्योंकि वह मोक्ष का साधन है । सद्भाव से सत्सेवा होती है, दृष्टिकोण में व्यापकता रहती है । आत्मवतु सर्वभूतेषु…. सब प्राणियों के प्रति अपने जैसा बर्ताव करना, यह है व्यापक दृष्टिकोण । दृष्टिकोण यदि …

Read More ..

बुद्धि के देव की आराधना – उपासना का दिवस


(गणेश चतुर्थीः 2 सितम्बर 2019) भगवान के 5 रूप सनातन धर्म के साधकों के आगे बड़े सुविख्यात हैं – सूर्य, शिव, विष्णु, शक्ति (जगदम्बा) और गणपति जी । गणपति जी की पूजा अपने देश में होती है और सनातन धर्म का प्रभाव जहाँ-जहाँ फैला है – बर्मा, चीन, जापान, बाली (इंडोनेशिया), श्री लंका, नेपाल – …

Read More ..