Tag Archives: Anmol Yuktiyan

Anmol Yuktiyan

चश्‍मा उतारने के लिए


(शरद पूर्णिमा की चांदनी में करे यह प्रयोग)

(परम पूज्य संत श्री आशारामजी महाराज के सत्संग से)

गाय का घी + शहद + त्रिफला (समान मात्रा में) मिश्रण करके शरद पूर्णिमा को चंद्रमा की चांदनी में रात भर रखो…. |

सुबह कांच की बरनी में रखो | दस ग्राम सुबह और दस ग्राम शाम को चालीस दिन तक दिन खाओ…. । मैंने तो साठ दिन खाया, चश्‍मा उतर गया | 

मन को मोड़ने की युक्तियाँ


उमा कहउँ मैं अनुभव अपना ।
सत्य हरि भजन जगत सब सपना।।
ये जगत सपना हैं.. बार-बार चिंतन करो ये सपना हैं। ये सपनाहैं।

जितना सत्संग से लाभ होता हैं उतना एकांत में उपवास और व्रत करके तप करने से भी उतना लाभ नहीं होता जितना सत्संग से होता हैं। जितना एकांत में जप-तप से लाभ होता हैं उतना संसार में बड़े राज्य करने से लाभ नहीं होता हैं। संसार का वैभव संभालने और भोगने में उतना लाभ नहीं होता जितना एकांत में जप-तप करने से लाभ होता है और जप-तप करने से उतना लाभ नहीं होता जितना सत्संग से लाभ होता हैं और सत्संग में भी स्वरूप अनुसंधान से जो लाभ होता हैं वो किसी से नहीं होता। इसीलिए बार-बार स्वरूप अनुसंधान करता रहे। ॐ…

देखे हुए, भोगे हुए में आस्था हटा दो। जो देखा, जो भोगा- अच्छा भोगा, बुरा भोगा, अच्छा देखा, बुरा देखा.. सब मार गोली। सब सपना हैं। न पीछे की बात याद करके, वो बहुत बढ़िया जगह थी, ये ऐसा था, ये ऐसा था, तो बढ़िया में, ऐसा में ये वृत्तियाँ उठती हैं, वृत्ति व्याप्ति, फल व्याप्ति होते ही आप बाहर बिखर जाते हैं, अपने घर में नहीं आ सकते।

इकबाल हुसैन पीठावाला के पास गया।

पीठावाला माने शराब के पीठे होते थे, दारू के अड्डों को पीठा बोलते हैं। दारू का पीठा होता हैं कि नही?

तो महाराज। उसने पीया, खूब पीया और महाराज एकदम फुल्ल हो गया फुल्ल। फुल्ल समझते हो ना? नशे में चूर। गालियाँ बकता हुआ, लालटेन को गालियाँ देता हुआ, सड़क को गालियाँ देता हुआ, अपना घर खोजता-खोजता ठोकरें खाता-खाता महाराज बड़ी मुश्किल से कहीं थक के पड़ा और दैवयोग से वही उसका घर था।

सुबह हुई, सूरज ऊगा। नशेड़ी जब उठता है तब सुबह हुआ उसका तो। ऐसा नहीं कि ब्रह्मज्ञानियों का सुबह। नशेड़ी का सुबह, सुबह के नौ बजे।

सुबह हुआ तो देखा कि वो पीठावाला का नौकर हाथ में लालटेन लिए आ रहा हैं। लालटेन तो यार मेरा है, उसके हाथ में कैसे?

वह नौकर आया, उसने कहा कि महाशय रात को आप लालटेन भूल गए थे और हमारा तोते का खाली पिंजड़ा तुम लेकर आये लालटेन समझ कर।

घर के बाहर जो फेंक दिया था वो पिंजड़ा तो पडा था ।

वो पिंजड़ा तुम ले आये हमारा लालटेन समझकर। और वो समझता हैं मेरे हाथ में लालटेन हैं और घर क्यों नहीं मिलता? लालटेन के बदले पिंजड़ा था।

ऐसे ही अपनी वृत्ति जो हैं चैतन्य को नहीं देखती , वो लालटेन वृत्ति नही हैं। संसार का पिंजड़ा बना दिया वृत्ति ने।

भटक मुआ भेदु बिना पावे कौन उपाय ।

खोजत-खोजत युग गये पाव कोस घर आय।।

कोई कोई गरबा गाते हैं, ये बजाते हैं-वो बजाते हैं लेकिन पिंजड़ा हाथ में रखते हैं। लालटेन रखना चाहिए न? जाना चाहते हैं अपने घर में, सुखस्वरूप में लेकिन थककर बेचारे फिर वहीं। जब नशा उतरता हैं, जीवन की शाम होती हैं तब, अब तक क्या किया? अरे, कुछ नहीं किया। 

अरे, ये आदमी तो पहले अंगूठाछाप था,बड़ा पढ-लिखकर विद्वान हो गया। बड़ा काम कर लिया? अरे, कुछ नहीं किया।

ये आदमी निर्धन था, अभी करोड़पति हैं, बड़ा काम कर लिया? कुछ नहीं, चिंता और मुसीबत बढ़ाया और कुछ नहीं किया।

ये आदमी को कोई नहीं जानता था अब लाखों आदमी इसको जानते हैं, बड़ा नेता हो गया। अरे, कुछ नहीं किया, दो कौड़ी भी नहीं कमाई अपने लिये। हाय-हाय करके शरीर के लिये और वही शरीर जलाकर जायेगा।  क्या किया?

मूर्ख लोग भले ही कह  दे कि ये बड़ा विद्वान हैं, बड़ा सत्तावान हैं, बड़ा धनवान हैं मूर्खों की नजर में लेकिन ब्रह्मवेत्ताओं की नजर, शास्त्र की नजर, भगवान की नजर से देखो तो उसने कुछ नहीं किया, समय गँवाया समय। उम्र गँवाई उसने और क्या किया? मुसीबत मोल ली। ये सब इकट्ठा करने में जो समय खराब हुआ वो समय फिर वापस नहीं मिलेगा उसको और इकट्ठा किया इधर ही छोड़ के जायेगा। क्या किया इसने? लेकिन आजकल समाज में बिल्कुल उल्टी चाल है। मकान-गाड़ी, वाह भाई वाह, इसने तरक्की की। बस उल्टे मार्ग जाने वालों का पोषण हो रहा हैं। सच्ची बात सुनने वाले भी नहीं मिलते, सुनाने वाले भी नहीं मिलते इसीलिए सब पच रहे हैं अशांति की आग में। जगतनियंता ‘आत्मा’ अपने पास हैं और फिर भी संसारी दुःखी हैं तो उल्टी चीजों को पाने के लिए। सपने के हाथी…

मन बच्चा है इसको समझाना बड़ा… । युक्ति चाहिये।

एक बार बीरबल आये दरबार में। 

अकबर ने कहा देर हो गई क्या बात हैं?

“हुजूर। बच्चा रो रहा था, उसको जरा शांत कर रहा था।”

“बच्चे को शांत कराने में दोपहर कर दिया तुमने? कैसे बीरबल हो।”

“हुजूर, बच्चे तो बच्चे होते हैं। राजहठ, स्त्रीहठ, योग हठ और बालहठ। जैसे राजा का हठ वैसे ही बच्चों का होता हैं महाराज।”

“बच्चों को रीझाना क्या बड़ी बात हैं?”

“बड़ी कठिन बात होती हैं।”

“बच्चे को रिझाना क्या हैं? यूँ (चुटकी में) पटा लो।”

“नही पटता महाराज। बच्चा हठ ले ले तो फिर। आप तो मेरे माई-बाप हैं मैं बच्चा बन जाता हूँ।

“हाँ, तेरे को राजी कर देंगे।”

बीरबल रोया-” पप्पा, पिताजी…”

अकबर-“अरे, चाहिये क्या?”

बीरबल-“मेरे को हाथी चाहिये।”

अकबर-“ले आओ। हाथी लाकर खड़ा कर दो।”
राजा था, सक्षम था वो तो। हाथी लाकर खड़ा कर दिया।

फिर बीरबल ने रोना चालू कर दिया। ..”मेरेको देगड़ा ला दो।”
अकबर-“अरे, चलो एक देग मँगा दो।”
बीरबल-“हाथी देगड़े में डाल दो।”
अकबर-“कैसे? अरे, नही आयेगा।”
बच्चे का हठ और क्या? अकबर समझाने में लग गया। अकबर बोले कि भाई मैं तो नहीं तेरे को मना सकूँगा। अब मैं बेटा बनता हूँ, तुम बाप बनो।”
बीरबल ने कहा ठीक है।
अकबर रोया।
बीरबल-“अब तो मेरे को पिता बनने का मौका मिला, बोलो बच्चे, क्या चाहिये?”
अकबर बोले-“हाथी चाहिये।”
बीरबल ने नौकर को बुलाया, कहा-“चार आने के दो खिलौने वाले हाथी ले आ। एक नहीं दो ले आ।”
लाकर रख दिये- “ले बेटे हाथी।”
अकबर बोले-“देगड़ा चाहिये।”
बीरबल बोले-“लो।”
अकबर-“इसमें हाथी डाल दो।”
बीरबल-“एक डाल दूँ कि दोनों?”
अकबर-“दोनो रख दो।”
दोनों डाल दिये।


ऐसे ही मन बच्चा है। उसकी एक वृत्ति ऐसी उठी तो फिर वो क्या कर सकता हैं। इसीलिए उसको ऐसे ही खिलौने दो जो आप उनको सेट कर सको। उसको ऐसा ही हाथी दो जो देगड़े में रह सके। उसकी ऐसी ही पूर्ति करो जो तुम्हारे लगाम में रह सके, तुम्हारे कंट्रोल में रह सके। तुम अकबर जैसा करते हो लेकिन बीरबल जैसा करना सीखो। मन बच्चा हैं, उसके कहने में ही चलोगे तो वो गड़बड़ कर देगा। उसको पटाने में लगो ,उसके कहने में नहीं, उसको पटाने में। उसके कहने में लगोगे तो मन भी अशांत रहेगा, बाप भी अशांत , बेटा भी अशांत और उसको घुमाने में लगोगे तो बेटा भी खुश हो जायेगा, बाप भी खुश हो जायेगा। देगड़े में हाथी डाल दें खिलौने के, बस ठीक हैं।


ऐसे ही मन की कुछ ऐसी-ऐसी आकांक्षाएँ होती हैं, ऐसी-ऐसी माँगे होती हैं जो माँग पूरी करते-करते जीवन पूरा हो जाताहै और उस माँग से सुख मिला तो आदत बन जाती है और दुःख मिला तो उसका विरोध बन जाता है लेकिन उस वक्त मन को फिर और कोई बहलावे की चीज दे दो, और कोई चिंतन की चीज दे दो। हल्का चिंतन करता हो तो बढ़िया चिंतन दे दो। हल्का बहलाव करता हैं तो बढ़िया बहलाव दे दो, नॉवेल पढ़ता हैं तो शास्त्र दे दो, इधर उधर की बात करता हैं तो माला पकड़ा दो। वस्त्र अलंकार किसी का देखकर आकर्षित होता हैं तो शरीर की नश्वरता का ख़्याल करो। किसी के अपमान को याद करके जलता हैं तो जगत के स्वप्नत्व को याद करो। ऐसे, मन को ऐसे खिलौने दो जो आपको परेशान न करें। अपन लोग उसमें लग जाते हैं, मन में आया ये कर दिया, मन में आया फैक्ट्री कर दिया, मन में आया ये कर दिया। करते-करते फिर फँस जाओगे। संभालने की जवाबदारी बढ़ जायेगी। अंत में देखो तो कुछ नहीं। जिंदगी उसी में पूरी हो गई। अननेसेसरी नीड (Unnecessary  need) बिन जरूरी आवश्यकताएँ । इसीलिए कबीर ने कहा-

साँई ते इतना माँगिये जो नौ कोटि सुख समाय।

मैं भी भूखा न रहूँ, साधू भी भूखा न जाय।।

सियावर रामचंद्र की जय। ऐसी अपनी आवश्यकता कम करो। बाकी का समय जप में, आत्मविचार में , आत्मध्यान में, कभी-कभी एकांत में, कभी सत्कर्म में, कभी सेवा में। अपनी व्यक्तिगत आवश्यकता कम करो तो आप स्वतंत्र हो जायेंगे। अपने  व्यक्तिगत सुख-भोग की इच्छा कम रखो तो आपकी मन की चाल कम हो जाएगी। परहित में चित्त को, समय को लगाओ, वृत्ति व्यापक हो जायेगी। परमात्मा के ध्यान में लगाओ, वृत्ति शुद्ध हो जायेगी । परमात्मा के तत्व में लगाओ, वृत्ति के बंधन से आप निवृत्त हो जायेंगे। भाई, सत्संग में तो हम आप लोगों को कमी रखने की कोशिश नहीं करते।

रोगप्रतिकारक शक्ति (Immunity) बढ़ाने हेतु पूज्य बापू जी द्वारा बताये सशक्त उपाय


वातावरण में उपस्थित रोगाणु हमेशा शरीर पर आक्रमण करते रहते हैं । जब शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता कम होती है तब रोग-बीमारियाँ घेर लेते हैं । यदि आप पूज्य बापू जी द्वारा बताये गये निम्नलिखित सशक्त उपाय करें तो आपका शरीर, मन व प्राण बलवान होंगे और आपकी रोगप्रतिकारक शक्ति मजबूत रहेगी ।

1. जो लोग सुबह की शुद्ध हवा में प्राणायाम करते हैं उनमें प्राणबल बढ़ने से रोगप्रतिकारक शक्ति बढ़ती है और इससे कई रोगकारी जीवाणु मर जाते हैं । जो प्राणायाम के समय एवं उसके अलावा भी गहरे श्वास लेते हैं उनके फेफड़ों के निष्क्रिय पड़े वायुकोशों को प्राणवायु मिलने लगती है और वे सक्रिय हो उठते हैं । फलतः शरीर की कार्य करने की क्षमता बढ़ जाती है तथा रक्त शुद्ध होता है नाड़ियाँ शुद्ध रहती हैं, जिससे मन प्रसन्न रहता है ।

अगर गौ-गोबर के कंडों या अंगारों पर एक चम्मच अर्थात् 8-10 मि.ली. घी की बूँदें डालकर धूप करते हैं तो एक टन शक्तिशाली वायु बनती है । ऐसे  वातावरण में अगर प्राणायाम करें तो कितना फायदा उठाया जा सकता है इसका वर्णन नहीं हो सकता । वायु जितनी बलवान होगी, उतना बुद्धि, मन, स्वास्थ्य बलवान होंगे ।

2. सूर्यकिरणों में अदभुत रोगप्रतिकारक शक्ति है । संसार का कोई वैद्य अथवा कोई मानवी उपचार उतना दिव्य स्वास्थ्य और बुद्धि की दृढ़ता नहीं दे सकता है जितना सुबह की कोमल सूर्य-रश्मियों में छुपे ओज-तेज से मिलता है ।  प्रातःकाल सूर्य को अर्घ्य-दान, सूर्यस्नान (सिर को कपड़े से ढककर 8 मिनट सूर्य की ओर मुख व 10 मिनट पीठ करके बैठना ) और सूर्यनमस्कार करने से शरीर हृष्ट-पुष्ट व बलवान बनता है ।

डॉक्टर सोले कहते हैं- “सूर्य में जितनी रोगनाशक शक्ति है उतनी संसार की किसी अन्य चीज में नहीं है ।”

3. तुलसी के 1-2 पौधे घर में जरूर होने चाहिए । दूसरी दवाएँ कीटाणु नष्ट करती हैं लेकिन तुलसी की हवा तो कीटाणु पैदा ही नहीं होने देती । तुलसी के पौधे का चहुँओर 200 मीटर तक प्रभाव रहता है । जो व्यक्ति तुलसी के 5-7 पत्ते चबाकर सुबह पानी पीता है उसकी स्मरणशक्ति बढ़ती है, ब्रह्मचर्य मजबूत होता है । सैंकड़ों बीमारियाँ दूर करने की शक्ति तुलसी के पत्तों में है । तुलसी के एक चुटकी बीज रात को पानी में भिगोकर सुबह पीने से आप दीर्घजीवी रहेंगे और बहुत सारी बीमारियों को भगाने में आपकी जीवनीशक्ति सक्षम एवं सबल रहेगी ।

4. श्वासोच्छवास की भगवन्नाम जपसहित मानसिक गिनती (बिना  बीच में भूले 54 या 108 तक) या अजपाजप करें ।

5. खुशी जैसी खुराक नहीं, चिंता जैसा मर्ज नहीं । सभी रोगों पर हास्य का औषधि की नाईं उत्तम प्रभाव पड़ता है । हास्य के साथ भगवन्नाम का उच्चारण एवं भगवद्भाव होने से विकार क्षीण होते हैं, चित्त का प्रसाद बढ़ता है एवं  आवश्यक योग्यताओं का विकास होता है । हरिनाम, रामनाम एवं ॐकार के उच्चारण से बहुत सारी बीमारियाँ मिटती हैं और रोगप्रतिकारक शक्ति बढ़ती है । दिन की शुरुआत में भगवन्नाम-उच्चारण करके सात्त्विक हास्य से (देव-मानव हास्य प्रयोग करने से) आप दिन भर तरोताजा एवं ऊर्जा से भरपूर रहते हैं, प्रसन्नचित्त रहते हैं । हास्य आपका आत्म विश्वास भी बढ़ाता है ।

(रोगप्रतिकारक प्रणाली पर प्रसन्न एवं खिन्न चित्तवृत्ति का प्रभाव देखने हेतु स्टेट युनिवर्सिटी ऑफ न्यूयार्क एट स्टोनी ब्रूक में प्रतिष्ठित प्रोफेसर रह चुके ए. ए. स्टोन ने  परीक्षण किया । उन्होंने पाया कि प्रसन्न चित्तवृत्ति के समय में व्यक्ति की प्रतिरक्षी प्रतिक्रिया (antibody response) क्षमता अधिक होती है । खिन्न मनोवृत्ति होने पर यह क्षमता कम पायी गयी ।)

6. नीम के पत्ते, फल, फूल, डाली, जड़-इन पाँचों चीजों को देशी घी के साथ मिश्रित करके घर में धूप किया जाय तो रोगी को तत्काल आराम मिलता है, रोगप्रतिकारक शक्तिवर्धक वातावरण सर्जित हो जाता है ।

7. नीम और ग्वारपाठे (घृतकुमारी) की कड़वाहट बहुत सारी बीमारीयों को भगाती है । ग्वारपाठा जीवाणुरोधी (antibiotic) व विषनाशक भी है । यह रोगप्रतिकारक प्रणाली को मजबूत करने में अति उपयोगी है । (नीम अर्क व घृतकुमारी रस (aloe vera juice) का भी उपयोग कर सकते हैं ।)

8. शुद्ध च्वयवप्राश मिले तो उसका एक चम्मच 10 ग्राम अथवा आँवला पाउडर एक चम्मच सेवन करने से पाचनशक्ति की मजबूती और बढ़ोतरी होगी । रोगप्रतिकारक शक्ति भी बढ़ेगी । (मधुमेह वाले शूगर फ्री च्यवनप्राश लें ।)

रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के कुछ अन्य उपाय

1. ध्यान व जप अनेक रोगों में लाभदायी होता है । इससे औषधीय उपचारों की आवश्यकता कम पड़ती है । ध्यान के समय अनेक प्रकार के सुखानुभूतिकारक मस्तिष्क-रसायन आपकी तंत्रिका-कोशिकाओं (neurons) को सराबोर करते हैं । सेरोटोनिन, गाबा, मेलाटोनिन आदि महत्त्वपूर्ण रसायन में बढ़ोतरी हो जाती है । इससे तनाव, अवसाद, अनिद्रा दूर भाग जाते है व मन में आह्लाद, प्रसन्नता आदि सहज में उभरते हैं ।

स्टगर्स विश्वविद्यालय, न्यूजर्सी के शोधकर्ताओं ने पाया कि ध्यान के अभ्यासकों में मेलाटोनिन का स्तर 98 % बढ़ जाता है । किसी-किसी में इसकी 300 % से अधिक की वृद्धि हुई । मेलाटोनिन के कार्य हैं तनाव कम करना, स्वस्थ निद्रा, रोगप्रतिरोधक प्रणाली को सक्रिय करना, कैंसर तथा अन्य शारीरिक-मानसिक रोगों से रक्षा करना ।

2. टमाटर, फूलगोभी, अजवायन व संतरा रोगप्रतिकारक शक्ति बढ़ाते हैं अतः भोजन में इनका उपयोग करें । हल्दी, जीरा, दालचीनी एवं धनिया का उपयोग करें । परिस्थितियों को देखते हुए अल्प मात्रा में लहसुन भी डाल सकते हैं ।

3. 150 मि.ली. दूध में आधा छोटा चम्मच हल्दी डाल के उबालकर दिन में 1-2 बार लें ।

4. रोगप्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने हेतु प्राणदा टेबलेट, ब्रह्म रसायन, होमियो तुलसी गोलियाँ, तुलसी अर्क (100 मि.ली. पानी में 1 से 5 बूँद आयु व प्रकृति अनुसार), होमियो पॉवर केअर आदि का सेवन लाभदायी है । संकलकः धर्मेन्द्र गुप्ता)

स्रोतः ऋषि प्रसाद, अप्रैल-मई 2020, पृष्ठ संख्या 46,47 अंक 328-329

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ