समाज निर्माण में ब्रह्मवेत्ताओं का योगदान

समाज निर्माण में ब्रह्मवेत्ताओं का योगदान


हम इतिहास देखेंगे तो पायेंगे कि वे ही आत्मोन्नति, राष्ट्रोन्नति व राष्ट्रसेवा में सफल हुए जो ब्रह्मवेत्ता महापुरुषों के मार्गदर्शन मं चले हैं। उन्होंने ही सुन्दर ढंग से अपना एवं समाज का जीवन-निर्माण किया है जिन्होंने जागृत, हयात संतों-महापुरुषों का महत्व समझा है, उनके सत्संग-सान्निध्य का लाभ स्वयं लिया है एवं अपने सम्पर्क में आने वालों को दिलाया है। अवतारों, राजा-महाराजाओं, स्वतंत्रता सेनानियों, उद्योगपतियों, राजनेताओं – सभी क्षेत्रों की विभूतियों एवं हस्तियों का जीवन इसकी गवाही देता है।

ब्रह्मवेत्ता सदगुरुओं का प्रसाद था राम राज्य

भगवान श्रीराम जब 16 साल के हुए तब संसार की नश्वरता देख बहुत ही चिंतित रहने लगे। उनका शरीर सूखकर दुर्बल हो गया। इससे राजा दशरथ जी सहित सभी प्रजाजन अत्यंत चिंतित हुए। और ऐसे समय में ही ऋषि विश्वामित्र जी ने आकर दशरथ जी से राक्षसों के विनाश हेतु राम जी की माँग की। दशरथ जी और चिंता में पड़ गये। ऐसे गम्भीर समय में गुरु महर्षि वसिष्ठ जी ने परिस्थिति को सम्भाला और कहाः “आप चिन्तित न हों। महर्षि विश्वामित्र के निर्देश का आदरपूर्वक पालन करो। उनके साथ श्रीरामचन्द्र को भेजो।”

फिर वसिष्ठजी ने ब्रह्मोपदेश देकर राम जी को ऐसा अडिग बनाया कि वे 14 साल के वनवास जैसी विकट से विकट परिस्थिति में भी कभी खिन्न या दोलायमान नहीं हुए। रावण, कुम्भकर्ण जैसे आततायियों का समाज से सफाया कर सुन्दर राज्य व्यवस्था की। इस प्रकार रामराज्य ब्रह्मवेत्ता सद्गुरुओं का ही प्रसाद था।

देश के ‘भारत’ नाम के पीछे छुपी तपस्या

क्या आप जानते हैं कि हमारा देश ‘भारत’ कैसे कहलाया ? भागवत (5.4.7) व महाभारत (आदि पर्व अः 72.74) पढ़ लीजिये। ऋषभदेव जी के पुत्र राजा भरत अथवा शकुंतला के पुत्र चक्रवर्ती सम्राट भरत के सुशासन के कारण इस भूमंडल का नाम ‘भारत’ प्रचलित हुआ। यह इसलिए हुआ क्योंकि दोनों राजा भरत गुरुकृपा से सद्ज्ञान में रत थे – ‘भा’ याने सद्ज्ञान और ‘रत’ याने तल्लीन रहना।

शकुंतला पुत्र राजकुमार भरत को वेद एवं समस्त शास्त्रों का ज्ञान दे के शुभ संस्कार कर जीवन-निर्माण करनेक वाले महर्षि कण्व के ही महान प्रयासों का फल था राजा भरत का सुशासन ! इस प्रकार हमारे देश का नाम भी ब्रह्मज्ञानी महापुरुषों का ही कृपा-प्रसाद है।

महाभारत के युद्ध में जीत का रहस्य

भगवान श्रीकृष्ण ने हताश हुए अर्जुन को हिम्मत दी, सद्ज्ञान दिया और आत्मज्ञान में प्रतिष्ठित कर फिर युद्ध कराया। अर्जुन जब तक श्री कृष्ण जैसे ब्रह्मवेत्ता गुरु पास में होते हुए भी उनकी महिमा के प्रति अनजान थे और उन्हें मात्र एक सखा या युद्ध में रथचालक मानते थे, तब तक वे शोक एवं विषाद से बच नहीं पाये किंतु जब भगवान करुणाप्रेरित होकर सद्गुरु की भूमिका में खड़े हुए और अर्जुन शिष्यस्तेऽहम्….. ‘मैं आपका शिष्य हूँ।’ कहकर उऩकी शरण हुए तब उन्हें सर्वश्रेष्ठ ज्ञान – आत्मज्ञान प्राप्त हुआ, धर्मयुद्ध करने का बल मिला और जनता अत्याचार से मुक्त हुई व उसे धर्माधिष्ठित शासन मिला।

धर्म चेतना जागृति के सुवर्ण-अध्याय

विरक्त होने का विचार कर रहे वीर छत्रसाल को गुरु प्राणनाथ जी ने कर्मयोग द्वारा परमात्म प्राप्ति की प्रेरणा दी थी। छत्रसाल को मुगल शासकों से लड़ने हेतु सैन्यबल, धनबल आदि की कमी पड़ रही थी तब गुरु उनके मार्गदर्शक बने। गुरु ने अंतर्दृष्टि से देखकर पन्ना को राजधानी बनवाया, जहाँ छत्रसाल को असंख्य बहुमूल्य हीरे मिले। प्राणनाथ जी ने अपने अनेक शिष्यों को छत्रसाल के सैन्य में भर्ती होने की प्रेरणा दी और युद्धों में पहुँचकर धर्म की रक्षा हेतु सेना का प्राणबल बढ़ाया।

ऐसे ही छत्रपति शिवाजी महाराज ने जब गुरु समर्थ रामदास जी के चरणों में अपना राज्य अर्पण किया एवं विरक्त बनने की इच्छा व्यक्त की तब समर्थ जी ने उन्हें राज्य लौटाकर अपनी अमानत के रूप में राजकाज सँभालते हुए निष्काम कर्मयोग का अवलम्बन लेने के लिए कहा एवं बाद में ब्रह्मज्ञान की प्राप्ति भी करा दी। गुरुदेव एवं माँ जीजाबाई के आशीर्वाद से महायोद्धा शिवाजी महाराज हिन्दवी स्वराज्य (हिन्दू साम्राज्य) की स्थापना करने में सफल हुए। गुरु गोविन्दसिंह जी ने माधोदास वैरागी में से एक महान धर्मयोद्धा का जन्म हुआ, नाम प़ड़ा वी बंदा बहादुर या बंदा वैरागी।

महापुरुषों ने राजा जनक, श्रीरामजी के भाई भरत, चन्द्रगुप्त मौर्य, राजा पीपाजी जैसे अनेकानेक उत्कृष्ट शासक देश को दिये।

प्रथम स्वदेशी स्टील  फैक्ट्री के प्रेरणास्रोत

स्वामी विवेकानंद जी से खेतड़ी के महाराजा व जमशेद जी टाटा लाभान्वित हुए। स्वामी जी ने जमशेद जी को प्रथम स्वदेशी स्टील कारखाना स्थापित करने की प्रेरणा दी और वह कारखाना अत्यंत सफल रहा व आज भी विश्वप्रसिद्ध है।

त्रिकालदर्शी दूरद्रष्टा की करुणामय सलाह ‘तीन की बददुआ से विशेष बचना चाहिए।’

ब्रह्मर्षि देवराहा बाबा जी के चरणों में देश की एक पूर्व प्रधानमंत्री हार का कारण जानने पहुँची तो बाबा जी ने इसे गौ-रक्षकों के ऊपर अत्याचार और संतों के अपमान का फल बताया। देशसेवा हेतु सत्ताप्राप्ति की याचना करने पर करुणामूर्ति बाबा जी ने उन्हें एक अन्य ब्रह्मज्ञानी संत आनंदमयी माँ के सान्निध्य में जाने की प्रेरणा दी तथा कहा कि “इससे तुझे पुनः राज्यप्राप्ति होगी।” और उन प्रधानमंत्री ने महापुरुष के वचनों का अक्षरशः पालन किया तो उनको सत्ताप्राप्ति भी हुई।

बाद में उन प्रधानमंत्री का दर्दनाक मृत्यु के बाद एक अन्य प्रधानमंत्री ने देवराहा बाबा जी से पूछा कि “उनकी मृत्यु ऐसे क्यों हुई ?” तो बाबी जी ने बतायाः “गौरक्षा आन्दोलन में संतों के ऊपर लाठीचार्ज से सैंकड़ों महात्माओं की हड्डियाँ टूट गयीं। उसको साधुओं की बददुआएँ लगीं। तुम लोग जो प्रधानमंत्री बनते हो यह तुम्हारे पूर्वपुण्यों का फल है किंतु वर्तमान में अधिक पाप करने से यह राजभोग का सुख नष्ट हो जाता है। बच्चा ! वैसे सभी की बददुआ से बचना चाहिए किंतु विशेषकर विधवा स्त्री, अनाथ बच्चा व महात्मा दुःखी होकर यदि बददुआ देते हैं तो उसको परमात्मा भी नहीं टालते।”

स्वतंत्रता सेनानियों व समाजसेवियों के प्रेरणास्रोत

संत देवराहा बाबा अपने पास आने वाले क्रांतिकारियों से कहा करतेः “बच्चा ! मैं तुम्हारी बैटरी चार्ज करता हूँ, जिससे स्वतन्त्रता के कार्य में तुम लोग अपनी संघर्षमय आहुति डाल सको।”

साँईं श्री लीलाशाह जी महाराज स्वतंत्रता-सेनानियों के हित में भक्तों द्वारा सामूहिक संकल्प कराके एवं अपनी संकल्पशक्ति का भी प्रयोग करके उन्हें सशक्त बनाते थे। अंग्रेजों के अत्याचारों को रोकने हेतु जहाँ देवराहा बाबा आदि का आशीर्वाद पाकर सुभाषचन्द्र बोस ने आजाद हिन्द फौज का गठन किया, वहीं अहिंसक आंदोलन के नेता गांधी जी को स्वामी विवेकानंद जी से देशभक्ति की प्रेरणा एवं श्रीमद् राजचन्द्र जी से मार्गदर्शन मिला था। गांधी जी कहते हैं – “स्वामी विवेकानन्द के साहित्य को पढ़ने के बाद मेरा राष्ट्रप्रेम हजार गुना हुआ।”

विवेकानंद जी के साहित्य से प्रेरणा लेकर सुभाषचन्द्र बोस, ज्योतिन्द्रनाथ मुखर्जी जैसे अनेक क्रांतिकारी स्वतंत्रता-सेनानी योगी अरविंद जी के योग-मार्गदर्शक थे योगी विष्णु भास्कर लेले।

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के द्वितीय सरसंघचालक गोलवलकर गुरु जी यौवनकाल से ही विरक्त थे और उनके मन में हिमालय के एकांतवास में जाने के लिए प्रबल भावना थी। उनको समाज सेवा की सत्प्रेरणा देने वाले महापुरुष थे स्वामी रामकृष्ण परमहंस जी के सत्शिष्य स्वामी अखंडानंद जी।

जब समाज में अस्पृश्यता जैसी कुप्रथाएँ चल पड़ीं तो उनका निवारण करने वाले भी सबमें ईश्वर की सत्ता का प्रतिपादन करने वाले स्वामी रामानंद जी, रैदास जी, विवेकानंद जी, संत आशाराम जी बापू जैसे अद्वैत वेदांतनिष्ठ एवं भक्तिमार्ग के ज्ञाता महापुरुष ही थे। जहाँ भी समाज में आमूल-चूल, व्यापक मंगलकारी परिवर्तन हुए हैं, उनके मूल में संतपुरुष ही थे। ऐसे महापुरुषों ने राष्ट्र और विश्व को केवल वैचारिक ज्ञान ही नहीं दिया बल्कि समाज के हर अंग को कर्मयोग के प्रत्यक्ष अवलम्बन द्वारा परिपुष्ट करने का कार्य भी किया। ऐसे ब्रह्मवेत्ता महापुरुष आज भी विद्यमान हैं।

ब्रह्मनिष्ठ संत श्री आशारामजी बापू ने पिछले 5 दशकों में देश, धर्म व संस्कृति के हित में जो अभूतपूर्व कार्य किये, उनकी श्रृंखला भी बड़ी विशाल है। आपने केवल देश के अनेक प्रधानमंत्रियों, मुख्यमंत्रियों, अधिकारियों, संगठन-प्रमुखों को सत्प्रेरणा व मार्गदर्शन दिया है। पूज्य श्री ने धर्मांतरण से रक्षा एवं सांस्कृतिक विकृतियों का निवारण किया। 25 दिसम्बर से 1 जनवरी के बीच विश्वगुरु भारत कार्यक्रम शुरु किया। मातृ-पितृ पूजन दिवस, तुलसी पूजन दिवस जैसे संस्कृतिरक्षक पर्व शुरु किये।

पूज्य बापू जी ने अपने सत्संगों में मात्र आत्मा-परमात्मा का ही उपदेश नहीं दिया अपितु पारिवारिक सौहार्द, सामाजिक समरसता, राष्ट्रीय एकता व अखंडता, परोपकार, ‘परस्परदेवो भव’ – इस प्रकार के संदेशों और सेवाकार्यों की एक सरिता ही बहा दी, जिससे ज्ञानयोग के साथ कर्मयोग के समन्वय से धर्म एवं संस्कृति रक्षा तथा राष्ट्रसेवा के अनेक कार्य सम्पन्न हुए। संत श्री की अन्य सत्प्रवृत्तियों का वर्णन स्थानाभाव के कारण यहाँ नहीं कर पा रहे हैं। देखें लिंक http://goo.gl/J6qVdy

जैसे वृक्ष अपने फलों को स्वयं कभी नहीं खाता, सरिता अपने पानी का स्वयं पान नहीं करती, वैसे ही संतों का जीवन भी अपने लिए नहीं, दूसरों के कल्याण के लिए ही होता है। ऐसे संतों पर झूठे आरोप लगवाये जाने पर तत्कालीन समाज जितना सजग रहा, उतना ही वह महापुरुषों का लाभ ले पाया। प्यारे भारतवासियो ! सजग रहना, सत्य को जानना व उससे अनभिज्ञ समाज तक उसे पहुँचाना। प्राणिमात्र के परम हितैषी महापुरुषों का उनके हयातीकाल में ही अवश्य लाभ लेना।

स्रोतः ऋषि प्रसाद, दिसम्बर 2017, पृष्ठ संख्या 4-6 अंक 300

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *