All posts by Gurubhakti

Do you think that fulfillment of greed and desires will turn to your advantage? You are highly mistaken…


In the spiritual world there is humungous supply of everything…. Copious amount of food, resources etc.. Similarly in the spiritual realm there is divine peace and happiness all around… There are people (saints) who can bring about mass transformation and growth.. (in spiritual terms)

Are we reaping benefit out of it? Or are we enmeshing ourselves in this physical world?

When we get so involved in this physical world then transformation becomes difficult.

When we grow old or when we are about to take our final exit, then we think- Now is the time to become a devotee, now is the time to get involved in spiritual world. But unfortunately the precious time has slipped out of our hands.. we become so involved in the material world, that detachment becomes a difficult process..When I crossed the threshold into older age, I realized that God is my only companion, I tried spirituality, but my senile body pulled me back…

So, now is the time, Your beloved  is waiting for you… 

Malice, hatred, lust , greed increnate all your merits and Meditation, chanting , good deeds  increase your merits….

It is believed that the one who wears dirty clothes, keeps a dirty mouth and hands , Godess Laxmi leaves him…

Do you know that each one of you has a Philosopher’s stone… That is this human form, divine intellect and knowledge of scriptures and holy books. They can bring about prosperity in actual sense (Spiritual growth)

And can liberate you from the cycle of life and death…

If you have saintly desires (you want to help people, do good… ),then nature itself will lend you a helping hand..Your good desires will surely get fulfilled….

There is a beautiful story –

Once there was a man who found a Philosopher’s stone… He was so happy to have that… He was a man of saintly and angelic virtues…

He helped poor’s and destitute and gave food to pilgrims… He received a lot of blessing from people…

One day he was strolling in a forest, there he saw a man sitting under a tree. His beauty captured his attention. He was enraptured by the spark of his face.. It was divine spark…

Peace was dribbling from his eyes..

He went to him and said-

” Can I serve you in some way? It looks that you have no place to live in ..Shall I get you a house constructed??

The saint said- No.

He said,” Can I get you some food??

The saint said,”- No

( There was an old woman passing by , she looks very thin and debilitated)

I do not need food. This woman looks week and ravenous, give her some food to eat…

The man said- Sure.. ( He went to that woman ) and offered her help..

The Old woman said, “You want to give me food.. ok! But remember.. I am an extremely hungry woman , the more you will feed me, the more hungry I will grow.. You cannot satisfy me..  and if you fail to satisfy my hunger, then Beware! I ll kill you.

The main laughed and said- Oh, Don’t worry.. I have a lot to feed you, just come with me…

His servants went on serving that woman, but with each morsel she was becoming esurient…. They got frustrated… But she ate and ate and ate…

Now she said to that man,” You devil, You failed to satisfy my hunger, now I ll kill you….

He got agitated. Her words unnerved him…

He went to that saint and said,” Please help me , She will kill me ..

The saint said, “Come , Sit here, close your eyes…

(That old woman was actually saint’s creation ) He wanted to teach him a lesson and that was-

That old woman  metaphorizes  our wretched and lowly desires. The more we feed them, the more they grow.. It is impossible to satisfy all your desires… Do not try to give affection to your hungering senses, hurl your desires to the ground otherwise they ll slew you…

The man was so happy to learn this… He gave no attention to his wretched desires…

He went on serving people…One day he could sense an urge brewing inside him… He wanted to see that Saint again.. ( He wanted his darshan ) .. He set out to have his darshna… The journey was not easy.. He searched for him desperately.. He got lost in wild forests.. One night it was so cold that he got tired and fell asleep. When he woke up in the morning, he saw that his body was covered with a dear cloth.. He knew that only his compassionate Guru can do this. (A guru has a very soft heart..)

And he begun his journey again . He saw a hut encircled by beautiful flowers .Two lions were sitting around the hut.

He entered the hut and saw his Guru sitting there… ..( It took him 7 days to reach there)… He was beside himself with joy.. He blessed out…

He went to him and said,” Guru ji, Can i stay with you?? I want to experience divinity ..

The saint said, ” Sure, my child.

The saint observed that this man is not interested in worldly things and affairs. But something is blocking his way to divinity and that is the philosopher stone.. He was still attached to that stone.

The saint once took him to Ganges and said,” Tell me everything about your past..

While narrating his story , he made a mention of that philosopher’s stone..

The saint said,” Where is that stone now?? Is it with you?

The man said laughingly,” Yes I have concealed it in my locks”. You see..

The saint took that stone and threw it in the river..

The man got infuriated… He muttered,” Does he even know the value of this precious stone” ??

The saint said- ” Can you jump into the river, and bring some stones?

The man said,” Yes..

He plunged into the river and brought some stones..

The saint had divine powers.. He changed all those ordinary stones into phillospher stones…

This knocked him sideways..

It left him totally flabbergasted…

He said only one thing,”- The man who has the power to change something ordinary to something that is highly treasured..

What kind of soul he will be ?? What treasure( divinity) he will have??

Hia attachment for that philosopher smashed to smithereens and he got deeply involved in divinity..

Moral- Until unless complete detachment takes place , one cannot  involve oneself in divinity…

Divinity strengthens your soul , which gives you internal peace and satisfaction and it enriches you with divine virtues…

Another small story-

Once there was a priest , he had a cat.. He said-” Balance this candle on your head. He gave her the training to perform this difficult task..She successfully performed the task. But one day she saw a rat, and all his balance and training went in vain..

Similarly, when we attend spiritual discourses, we feel motivated and we make a resolve, from now onwards ” I will not do this ” , I will not involve myself in such things.. but once you see that rat , i.e .. temptations , you fall victim.. you lose your balance and get carried away by such temptations… Therefore; chant his name, you ll get enormous strength to fight off temptations …

Do you think that, a good partner, good children , favorable conditions and situations , material things , fulfillment of greed and desires will turn to your advantage? You are highly mistaken..

Only his name and your good deeds will pave the way to liberation..

How will you know, that your devotion has come to fruition??

The answer is simple, you’ll start experiencing inner peace, happiness and satisfaction…

वीर गुरुभक्त बसन्तलता की महान दास्तान (भाग-1)


गुरु के उपदेश में अविचल और अविरत श्रद्धा सच्ची भक्ति का मूल है। गुरु सदैव अपने शिष्य के हॄदय में बसते है। कबीर जी कहते है-

*गुरु और गोविंद दोनों मेरे समक्ष खड़े है तो मैं किसको प्रणाम करुं??* धन्य है वे गुरुदेव जिन्होंने मुझे गोविंद के दर्शन करवाये । केवल गुरु ही अपने योग्य शिष्य को दिव्य प्रकाश दिखा सकते हैं।

हर रोज सेवा का प्रारम्भ करने से पहले शिष्य को मन में निश्चय करना चाहिए कि पूर्व की अपेक्षा अब अधिक भक्ति भाव से एवं अधिक आज्ञाकारिता से गुरु की सेवा करूँगा।

श्री गुरुगोविंद सिंह जी का दरबार मात्र एक दरबार भर नहीं था। वह तो एक ऐसी सुंदर बगिया थी जहां नित नए भक्तो की निराली कलियां फूल बनती थी और उनकी खुशबू पूरी दुनिया मे फैल जाया करती थी। वह दरबार बलिदानों की एक ऐसी भट्टी भी था जहां वीर गुरुभक्त लकड़ियां नही बल्कि अपनी हड्डिया जलाकर उसे प्रचंड रखते थे। उस रूहानी दरबार की ऐसी ही एक विलक्षण भक्त थी बसन्तलता। बचपन से ही बसन्तलता गुरु घर में रहकर सेवा करने लगी थी। सेवा करते-करते वह कब बचपन की दहलीज़ पार कर गयी उसे पता ही नही चला अब बसन्तलता के पास विवेकपूर्ण सुलझी हुई सोच थी।बचपन से ही गुरु घर की सेवा करने से उसका मन इतना पवित्र हो चुका था उसमें विकारों की दुर्गंध के लिए कोई स्थान नही था। दुर्लभ होते हैं ऐसे मृग जो शिकारी के संगीत पर अपना मन न्यौछावर नही करते। बसन्तलता भी ऐसी ही थी जिसके अंदर संसार के राग रागनियों की कोई आहट नही थी वह पूरी निष्ठा से गुरु दरबार मे सेवा करती और माता साहिब कौर के साथ उन्ही के भवन में रहती।

फिर अचानक समय ने करवट बदली गुरुदेव की पावन छत्र छाया में जो आनंदपुर का किला हर पल दिवाली की तरह जगमगाता रहता था, उसे एक दिन मुगलो ने चारों तरफ से घेर लिया। बाहर से खाना पानी जाना भी बंद कर दिया इसके पीछे उनकी सोच यह थी कि जब किले के अंदर पशु तथा इंसानों के लिए खाने का अकाल पड़ जायेगा तो सबको बाहर आना ही पड़ेगा उस समय वे सभी का सिर कलम कर देंगे।परन्तु रेशम के धागे से आजतक कोई बहते दरिया के बहाव को नही बांध सका है। उधर किले के बाहर मुगल तथा पहाड़ी राजाओं के नापाक इरादे थे इधर किले में गुरुभक्तों की सुंदर भावनाएं थी।

मुगलो के जुल्म की इस भट्टी में गुरुमहाराज जी का छोटे से छोटा तथा बड़े से बड़ा शिष्य भक्ति के नूर से और चमक रहा था। बूढ़े शरीरों में भी जोश तथा जज्बा वेगवान हो उठा। गुरु के सिंह हर समय अस्त्र शस्त्र से सजे तैयार रहते। इस गम्भीर स्थिति में बसन्तलता भी योद्धाओं वाले वस्त्र धारण कर हाथ मे नंगी तलवार ले दुश्मनों से लोहा लेने को तैयार रहती। माता साहिब कौर के भवन की सुरक्षा की जिम्मेदारी बसन्तलता की थी। परन्तु अन्न पानी की कमी से सभी गुरुभक्तों के पेट रीड की हड्डी से चिपक गए लेकिन उनके हौसले कम नही हुए। जब मुगलो को यह बात पता चली तो उन्होंने एक चाल चली किले में फरमान भिजवा दिया कि- हमे पाक कुरान की कसम हम कोई खून खराबा नही चाहते बस हमे किले पर कब्जा चाहिए यदि गुरुदेव अपने सिंहों समेत किला छोड़ दे तो हम उन्हें कुछ नही कहेंगे। इसका प्रभाव यह हुआ कि कुछ सिक्ख चाल में फंस गए और गुरुदेव को किला छोड़ने के लिए कहने लगे वही ज्यादातर सिक्खों का कहना था कि उन्हें किला नही छोड़ना चाहिये चाहे सब भूख की वेदी पर स्वाहा क्यों न हो जाये। परन्तु हालात ऐसे बने गुरूसाहेब ने किला छोड़ने का निर्णय ले लिया अपनी पूरी लश्कर समेत गुरुजी सायंकाल किले से बाहर आ गए सूरज छिपने जा रहा था शायद आने वाले भयानक तथा दिल दहलाने वाली मंजर का गवाह बनने की शक्ति उसमे न थी।

बसन्तलता माता साहीब कौर, माता गुजरी जी, माता सुंदरी जी को पालकी में बिठाकर साथ-साथ चल रही थी उसके हाथ मे चमचमाती तलवार थी। वाह!! गुरुदेव की कृपा देखिए जिस उम्र में लड़कियों की बाहें चूड़ियों का भार भी मुश्किल से सहन कर पाती है उन्ही कलाइयों से बसन्तलता धरती से भी भारी गुरु परिवार की इज्जत का भार उठा रही थी। बसन्तलता रात के समय गुरु परिवार के साथ-साथ सरसा नदी के किनारे चलती जा रही थी अंधेरे के कारण दूर-दूर तक कुछ भी दिखाई नही दे रहा था। थोड़ी ही देर में घोड़ो की दगड-दगड करती आवाजे सुनाई देने लगी। बसन्तलता चौकन्नी हो गई उसे समझते देर न लगी कि मुगल कसम खाकर मुकर गए है। देखते ही देखते मुगलो ने हो हल्ला करते हुए सिक्खों पर चढ़ाई कर दी। हमला होते ही तेज बारिश तथा आंधी चलने लगी ऐसा लग रहा था कि मुगल फौजो के हमले के साथ ही कुदरत ने भी अपना भयानक रूप धारण कर लिया हो परन्तु अब क्या हो सकता था?? अचानक हुए इस हमले ने सिक्खों को सम्भलने का मौका ही नही दिया सिक्खों ने जी जान से मोर्चा सम्भालने की कोशिश की परन्तु अफसोस कि बहुत देर हो चुकी थी….। इससे पहले गुरुदेव की फौज अपनी ढाले सम्भालती दुश्मनों की तलवारे उनका कत्लेआम करने लगी।अचानक उठे इस तूफान, बारिश तथा गुप अंधेरे में बन्दों को बन्दा नज़र नही आ रहा था कौन किसके साथ लड़ रहा है यह पहचानना भी मुश्किल हो गया था जब या अल्लाह की आवाज आती तब पता चलता कि कोई मुगल मौत की खाई में गिरा है और जब सद्गुरु सद्गुरु कराहती हुई आवाज आती तो अपने आप ही निर्णय हो जाता कि किसी सिक्ख ने शहादत का जामा पहना है। परंतु अफसोस या अल्लाह की चीखें बहुत कम थी और शहादत की सैर पर निकलने वाली आवाजे कई गुना ज्यादा थी। दुख की इस घड़ी में गुरु सेवको के आगे एक और परीक्षा आ गयी सरसा नदी में आई बाढ़ के कारण पुल टूट गया अब इस काली अंधियारी, तूफानी रात में नदी को पार करना बड़ा मुश्किल हो गया मुगल सेनाओं ने इस बात का फायदा उठाया और इसी दौरान मुगल फौजो ने गुरु परिवार के जत्थे पर हमला बोल दिया।

आगे की कहानी कल की पोस्ट में दी जाएगी…..

वहाँ गुरु ने संकल्प किया और यहाँ योगानन्द जान गए लेकिन कैसे…??


गुरु की कृपा अखुट,असीम एवं अवर्णनीय है। श्रद्धा के द्वारा निमेष मात्र में आप परम् पदार्थ पा लेंगे। गुरु के वचन एवं कर्म में श्रद्धा रखो श्रद्धा रखो श्रद्धा रखो..। गुरुभक्ति विकसित करने का यही मार्ग है। गुरु के चरण में आत्मसमर्पण करना यह शिष्य का आदर्श होना चाहिए । गुरु महान है, विपत्तियों से डरना नही।हे वीर शिष्य! आगे बढ़ो।

चैतन्यम शाश्वतं शांतम

व्योमातीतम निरंजनम।

नादबिन्दु कलातीतम

तस्मै श्री गुरुवे नमः।।

अर्थात जो चैतन्य, शाश्वत, शांत व्योम से परे है निरंजन है उन गुरुदेव को प्रणाम है। जिस प्रकार प्राणवायु हमारे जीवन का संचालक है उसी प्रकार गुरुभक्ति हमारे शिष्यत्व को जीवित रखती है। जब जीवन मे गुरु का आगमन होता है तो शिष्य का जीवन ऐसा हो जाता है जैसे ठूठ से खड़े वृक्ष को बहारों ने घेर लिया हो, अरसे से सूखी धरा पर जल से भरे मेघ मेहरबान हो उठे हों, एक बुझी हुई बाती को जैसे नारंगी लौ छू गयी हो, अमावस्या से श्रापित आसमान पर जैसे सूर्य आशीष बरसाने लगे हो एवं मरणासन्न देह में जैसे किसीने नव प्राण फुंक दिये हो। शिष्य की मानो जीवन सृष्टि ही खिल उठती है और उसका अंतः मन स्वतः ही कह उठता है कि..

इस तन में जो प्राण है बसते,

उन प्राणों का स्रोत आप हो।

पल पल में जो स्वांस लेता,

उन श्वांसों का विस्तार आप हो।

मैं तो हूँ बस टूटी नईया,

परन्तु खुश हूं कि पतवार आप हो।

शब्दो मे जो कही न जाये,

इतनी गहरी बात आप हो।

इस प्रकार एक शिष्य के भीतर अपने गुरु के प्रति श्रद्धा उतपन्न होती है और उसके प्राण पूरी तरह अपने गुरु में समा जाते है। वह हॄदय की हर धड़कन में अपने गुरु का स्मरण करता है। उसके रस भरपूर भाव तरंगे द्रवित होकर गुरु के चरणों का प्रक्षालन करते है। और फिर दुनिया के किसी कोने में बैठकर अपनी भाव अपनी संवेदना अपने गुरु को समर्पित कर सकता है और गुरु भी अपने सुक्ष्म ग्रहणशक्ति के द्वारा शिष्य के अंदर छिपे भावो को रुबरु पढ़ लेते है और उन्हें अपनी करुणार्द्र विशाल हॄदय में संजो लेते है।

यहां एक महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि गुरु शिष्य के भावो के इस आदान प्रदान के क्रिया के लिए शिष्य का गुरु के साथ पूर्ण तौर पर आंतरिक तालमेल होना चाहिए ।

आइए गुरु और शिष्य के विचार तरंगों के आदान प्रदान को एक अद्भुत उदाहरण के माध्यम से समझते है।

एक बार युक्तेश्वर गिरी जी को कलकत्ता से सिरमपुर सुबह नौ बजे आना था उनके शिष्य योगानंद जी व डीजेन उनके दर्शन के लिए उतावले थे परन्तु तभी योगानंद जी के मन मे बिजली के समान तेज़ तरंगे पैदा हुई उन तरंगों ने योगानंद जी को सन्देश दिया कि मैं 9 बजे नही 10 बजे पहुँचूँगा।

योगानंद जी ने सन्देश को ग्रहण किया और डिजेन को भी बताया। डीजेन को विश्वास नही हुआ वह 9 बजे ही स्टेशन पहुंच गया परन्तु युक्तेश्वर जी का आगमन 10 बजे ही हुआ। डीजेन के लिए यह घटना बहुत आश्चर्यजनक थी उसने गुरुदेव से इस पक्षपाती व्यवहार का कारण पुछा। युक्तेश्वर गिरी जी ने इस रहस्य का उद्घाटन करते हुए बताया कि – मेरे सन्देश में कोई कमी न थी, मैंने तो दोनों को एक जैसा सन्देश ही भेजा था तुम्हारी ग्रहणशक्ति में दोष है।

योगानंद जी का गुरु के प्रति पूर्ण समर्पण व आंतरिक तालमेल होने के कारण वे सन्देश को पूरी तरह अंगीकार कर पाए जबकि डीजेन उन तरंगों को पकड़ न सका। इसमे कोई संदेह नही कि एक शिष्य जिसके चिंतन में हर समय गुरु ही रहते है वह गुरु द्वारा प्रसारित तरंगों को ग्रहण करने के योग्य होता है। इसके पीछे एक वैज्ञानिक कारण है यदि बिजली की तार में से बिजली की तरंग प्रवाहित की जाए तो उसके आस पास एक “Magnetic Field” (मैग्नेटिक फील्ड) अर्थात चुम्बकीय क्षेत्र तैयार हो जाता है ठीक इसी प्रकार मानवीय स्नायु तंत्र भी कुछ इसी प्रकार की तरंगों का ताना बाना है। जिसके प्रभाव से एक चुम्बकीय मंडल तैयार हो जाता है।

जब एक शिष्य के भीतर एक समय, हर समय गुरुदेव का चिंतन चलता है तो उन विचार तरंगों के आधार पर भी एक चुम्बकीय क्षेत्र तैयार हो जाता है यह वही क्षेत्र होता है जो गुरु द्वारा प्रदान की गई उन उच्च कोटि की तरंगों को बहुत आसानी से ग्रहण कर लेता है इसलिए हम निरन्तर गुरु का चिंतन व ध्यान करे अपने गुरु के साथ आंतरिक तालमेल बढ़ाये। यदि हम अपने हॄदय रूपी धरती पर गुरु को विराजित करे तो हमारी वृत्तीयां भी गुरुमय हो जाएंगी और फिर ऐसा अंतःकरण गुरु की प्रत्येक प्रेरणा को बहुत आसानी से पकड़ पायेगा।

हम स्वयं से प्रश्न करें कि हमारा ध्यान किधर है हमारी भावनाएं, हमारी सोच, हमारा श्रम, हमारी साधना किस पर लक्षित है? यदि अपने गुरु पर है तो निःसन्देह हम अध्यात्म के अंतिम पड़ाव तक अवश्य पहुचेंगे, मंजिल अवश्य हमारी होगी। अतः हमारा प्रयास होना चाहिए कि हम अपने गुरुदेव को हरपल निकट अनुभव कर पाए। स्वयं को उनके हृदय में एवं उनको अपने हॄदय में स्थित देख पाये। विचार से ,व्यवहार से,उनके सुगढ़ सांचे में ढल पाए एवं अपने मन की चौतरफा बिखरी किरणों को गुरु रूपी आध्यात्मिक सूर्य में विसर्जित कर सकें जब ऐसा होगा तब हमारा अंतःमन यही कह उठेगा कि..

हर श्वांस-श्वांस में मेरी,

एक तेरी ही आशा है।

तू ही तो मेरी श्रद्धा है,

तू ही तो मेरा विश्वास है।

तेरे दिए ज्ञान से ही,

आत्मा का साज है।

तूने ही तो खोला,

इस घट का भी राज है।

सेवा,सुमिरन ध्यान तेरा,

यही मेरा नित काज है।

सद्गुरु तेरे ही चरणों मे,

मेरा कल और आज है।

सद्गुरु तेरे ही चरणों मे,

मेरा कल और आज है।

वास्तव में यही शिष्यत्व की वह ध्वनि है जिसे गुरुदेव सुनना चाहते हैं।