Tag Archives: Gau-Mahima

सर्व सफलतादायिनी गौ


गोपाष्टमी 28 अक्तूबर 2017

देशी गाय मानव जाति के लिए प्रकृति का अनुपम वरदान है। जिस घर में गाय की सेवा हो, वहाँ पुत्र-पौत्र, धन, विद्या, सुख आदि जो भी चाहिए मिल सकता है। महर्षि अत्रि ने कहा हैः “जिस घर में सवत्सा धेनु (बछड़े वाली गाय) नहीं हो, उसका मंगल-मांगल्य कैसे होगा ?” गाय का घर में पालन करने से घर की सर्व बाधाओं और विघ्नों का निवारण हो जाता है। विष्णु पुराण में आता है कि जब भगवान श्रीकृष्ण ने पूतना के विषयुक्त दुग्ध का पान करते समय उसके प्राणों को भी पा लिया तब वह महाभयंकर रूप धारण कर मर के पृथ्वी पर गिर पड़ी। इससे भयभीत यशोदा माँ ने गाय की पूँछ घुमाकर श्रीकृष्ण की नज़र उतारी और सबके भय का निवारण किया।

महाभारत (अनुशासन पर्वः 51.323) में कहा गया हैः

निविष्टं गोकुलं यत्र श्वासं मुञ्चति निर्भयम्।

विराजयति तं देशं पापं चास्यापकर्षति।।

‘गौओं का समुदाय जहाँ बैठकर निर्भयतापूर्वक साँस लेता है उस स्थान की शोभा बढ़ा देता है और वहाँ के सारे पापों को खींच लेता है।’

गौ से विविध कार्यों की सिद्धि

वास्तुदोषों का निवारणः जिस घर में गाय होती है, उसमें वास्तुदोष स्वतः ही समाप्त हो जाता है। इस संबंध में वास्तुग्रंथ ‘मयमतम्’ में कहा गया है कि ‘भवन-निर्माण का शुभारम्भ करने से पूर्व उस भूमि पर ऐसी गाय को लाकर बाँधना चाहिए जो सवत्सा (बछड़े वाली) हो। नवजात बछड़े को जब गाय दुलाकर चाटती है तो उसका फेन भूमि पर गिर के उसे पवित्र बनाता है और वहाँ होने वाले समस्त दोषों का निवारण हो जाता है।’

इससे कार्य भी निर्विघ्न पूरा होता है और समापन तक आर्थिक बाधाएँ नहीं आतीं।

यात्रा में सफलताः यदि यात्रा के प्रारम्भ में देशी गाय सामने दिख जाय अथवा अपने बछड़े को दूध पिलाती हुई दिख जाय तो यात्रा सफल होती है।

यदि रास्ते में जाते समय देशी गाय आती हुई दिखाई दे तो उसे अपनी दाहिनी बगल से जाने देना चाहिए, इससे यात्रा सफल होगी।

पितृदोष से मुक्तिः देशी गाय को प्रतिदिन या अमावस्या को रोटी, गुड़, चारा आदि खिलाने से पितृदोष समाप्त हो जाता है।

दीर्घायु-प्राप्तिः देशी गाय के घी का एक नाम ‘आयु’ भी है। आयुर्वै घृतम्। अतः गाय के दूध-घी से व्यक्ति दीर्घायु होता है। हस्तरेखा में आयुरेखा टूटी हुई हो तो गाय का घी काम में लें तथा गाय की पूजा करें।

साक्षात्कार (इन्टरव्यू) में सफलताः किसी भी साक्षात्कार हेतु या उच्च अधिकारी से भेंट आदि के लिए जाते समय गाय के रँभाने की ध्वनि कान में पड़ना शुभ है।

उत्तम संतान का लाभः इसके लिए घर में देशी गाय की सेवा अच्छा उपाय कहा गया है।

यम के भय से मुक्तिः शिव पुराण व स्कंद पुराण में कहा गया है कि गौ-सेवा करने और सत्पात्र को गौदान करने से यम का भय नहीं रहता।

पाप-ताप से मुक्तिः जब गायें जंगल से चरकर वापस घर को आती हैं, उस समय को गोधूलि वेला कहा जाता है। गाय के खुरों से उठने वाली धूलराशि समस्त पाप-तापों को दूर करने वाली है।

ग्रहबाधा-निवारणः गायों को नित्य गोग्रास देने तथा सत्पात्र को गौ दान करने से ग्रहों के अनिष्ट-निवारण में मदद मिलती है।

स्रोतः ऋषि प्रसाद, अक्तूबर 2017, पृष्ठ संख्या 25 अंक 298

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

 

बलवर्धक एवं पुष्टिदायक देशी गाय का दूध


देशी गाय के दूध को सम्पूर्ण आहार माना जाता है। इसे शास्त्रों ने ‘पृथ्वीलोक का अमृत’ कहा है, विशेषतः इसलिए कि यह उत्तम स्वास्थ्य प्रदायक एवं शरीर को दीर्घकाल तक बनाये रखने में सहायक है। गोदुग्ध शरीर की रोगप्रतिकारक शक्ति बढ़ाकर रोगमुक्त रखने में सहायक है।

आधुनिक अनुसंधानों के अनुसार देशी गाय के दूध में शरीर के लिए आवश्यक अधिकांशतः सभी पोषक तत्त्व – कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, वसा, विटामिन एवं खनिज तत्त्व प्रचुर मात्रा में पाये जाने के कारण यह एक पौष्टिक आहार है।

दूध शरीर को ताकत देता है, थकान को कम करता है, शक्ति कायम रखता है और आयु व स्मृति बढ़ाता है। बाल्यावस्था में दुग्धपान शरीर की वृद्धि करने वाला होता है। खाँड (कच्ची, लाल चीनी) या मिश्री मिला दूध वीर्यवर्धक तथा वात-पित्तशामक होता है।

देशी गोदुग्ध के कुछ औषधीय प्रयोग

उबाला हुआ गुनगुना दूध पीने से हिचकियाँ आना बंद हो जाता है।

दूध में आधा चम्मच हल्दी डाल के उबाल के पीने से जुकाम में लाभ होता है।

गुनगुने दूध में घी और मिश्री मिला के पीने से शरीर पुष्ट होता है, बल बढ़ता है और वीर्यवृद्धि होती है।

देशी गाय के दूध में दुगना पानी मिलायें एवं मिलाया हुआ पानी वाष्पीभूत होने तक उबालें व ठंडा होने पर मिश्री मिला के पियें। इससे पित्त प्रकोप से होने वाली जलन आदि बीमारियों में लाभ होता है।

पुष्टिप्रद खीर

देशी गाय के दूध की खीर सात्त्विक व बलप्रद होती है। विशेष रूप से शरद ऋतु में खीर खाना स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी है।

विधिः 200 ग्राम पके चावल में एक लीटर दूध डालकर 2-4 उबाल आने तक गर्म करें। आवश्यकता अनुसार मिश्री डालें। शीत ऋतु में उचित मात्रा में बादाम, काजू पिस्ता आदि मेवे भी डाल सकते हैं। प्रति व्यक्ति 1-2 काली मिर्च दूध में उबालनी चाहिए, जिससे दूध का वायु दोष दूर हो जाये।

विशेषः शरद पूनम (5 अक्तूबर 2017) की रात को 9 से 11 बजे के बीच खीर को चन्द्रमा की किरणों में रख दें। फिर अपने इष्टदेव, गुरुदेव को मन-ही-मन अर्पित कर भगवत्प्रसाद की भावना करके यह खीर खायें तो इससे आपको शारीरिक स्वास्थ्य के साथ मानसिक प्रसन्नता एवं आध्यात्मिक लाभ भी मिलेगा।

देशी गाय का दूध सभी के लिए अनुकूल रहता है तथापि गैस या मंद पाचन की शिकायतवालों को काली मिर्च सौंठ, इलायची, पीपर, पीपरामूल, दालचीनी जैसे पाचक मसाले मिला के उबाला हुआ दूध लेना चाहिए। थोड़ी सी पीपर या सोंठ डालने से दूध अग्नि प्रदीपक तथा वातहर बनता है।

ध्यान दें- दूध के उपरोक्त लाभ सिर्फ देशी गाय के दूध से मिलेंगे। जर्सी, ब्राउन, स्वीडिश, होल्सटीन, फ्रिजीयन आदि विदेशी नस्लों की तथाकथित गायों का दूध पीने से लाभ की जगह विभिन्न प्रकार के रोग होने की सम्भावना होती है। यदि देशी गाय का दूध प्राप्त न हो सके तो भैंस का दूध ले सकते हैं परंतु विदेशी नस्ल की तथाकथित गाय का दूध नहीं लेना चाहिए।

दूध को ज्यादा उबाल के गाढ़ा बना के उपयोग करना हितकर नहीं है। दूध और भोजन के बीच कम-से-कम 3 घंटे का अंतर रखें।

स्रोतः ऋषि प्रसाद, अगस्त 2017, पृष्ठ संख्या 29,33 अंक 296

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

देशी गाय बढ़ाती हैं धनात्मक ऊर्जा


हर मनुष्य, जीव-जंतु, पशु, पेड़-पौधा या वस्तु के चारों ओर सप्तरंगीय ऊर्जा तरंगें निष्कासित होती रहती हैं व एक अति सूक्ष्म गोलीय चक्र-सा प्रतिबिम्ब रहता है, जिसको ‘आभामण्डल (ओरा)’ कहते हैं। देवी-देवताओं तथा संत-महापुरुषों के श्रीचित्रों में उनके सिर के पीछे दिखने वाला चमकीला, रंगीन गोल घेरा उनके आभामंडल का ही प्रतीक है। साधारण मनुष्यों में यह आभामंडल 2-3 फीट दूरी तक गोलाईवाला माना जाता है। जिस व्यक्ति के आभामंडल का दायरा जितना अधिक होता है, वह उतना ही अधिक कार्यक्षम, मानसिक रूप से क्षमतावान व स्वस्थ होता है।

परीक्षणों से सिद्ध हुआ है कि ‘देशी गाय, तुलसी, पीपल आदि के पूजन की परम्परा का एक ठोस वैज्ञानिक आधार यह भी है कि इनसे ब्रह्मांडीय (धनात्म) ऊर्जा प्रवाहित होती रहती है।’

महाभारत (अनुशासन पर्वः 83.5) में पितामह भीष्म कहते हैं-

गावस्तेजः परं प्रोक्तमिह लोके परत्र च।

न गोभ्यः परमं किंचित् पवित्रं भरतर्षभ।।

‘भरतश्रेष्ठ ! गौएँ इहलोक और परलोक में भी महानतेजोरूप मानी गयी हैं। गौओं से बढ़कर पवित्र कोई वस्तु नहीं है।’

देशी गौओं का आभामंडल सामान्य मनुष्य तथा अन्य पशुओं के आभामंडल से ज्यादा व्यापक होता है। यही कारण है कि गायों की परिक्रमा करने से उनके आभामंडल के प्रभाव में आकर हमारी धनात्मक ऊर्जा में वृद्धि होती है तथा हमारे आभामंडल का दायरा बढ़ता है। यह बात ओरा विशेषज्ञ के. एम. जैन ने एक वैज्ञानिक तरीके से प्रमाणित भी की है। डॉ. चारूदत्त पिंगले के अनुसार भारतीय गायों का आभामंडल लगभग 8 मीटर का होता है।

भारतीय परमाणु वैज्ञानिक डॉ. मेनम मूर्ति द्वारा निर्मित आभामंडल मापने के यंत्र ‘यूनिवर्सल स्कैनर’ द्वारा किसी के भी आभामंडल का दायरा मापा जा सकता है। आंध्र प्रदेश में पायी जाने वाली देशी प्रजाती ‘पुंगानुर गाय’ के आभामंडल का दायरा तो 120 फीट तक पाया गया है।

गायों की इस धनात्मक ऊर्जा का लाभ समाज को मिल सके, शायद इसी उद्देश्य को ध्यान में रखकर हमारे शास्त्रों व महापुरुषों ने देशी गाय की परिक्रमा, स्पर्श, पूजन आदि की व्यवस्था की है।

स्रोतः ऋषि प्रसाद, जुलाई 2017, पृष्ठ संख्या 27, अंक 295

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ