Tag Archives: Dhyan Sadhna

बलानां श्रेष्ठं बलं प्रज्ञाबलम् – पूज्य बापू जी


महाभारत के उद्योग पर्व (37.55) में आता हैः

यद् बलानां बलं श्रेष्ठं तत् प्रज्ञाबलमच्यते ।।

‘जो सब बलों में श्रेष्ठ बल है वह प्रज्ञा (बुद्धि का शुद्ध किया हुआ, सुविकसित और सुसंस्कृत रूप, ज्ञानदृष्टि, अंतर्दृष्टि, आत्मिक ज्ञान से सुसम्पन्न मति) का बल कहलाता है ।

 विश्व में सबसे बड़ा बल है बुद्धि का बल । आध्यात्मिक उन्नति के अथवा बुद्धिबल के विकास के कुछ लक्षण हैं-

पहला- संसार के ऐश-आराम, प्रलोभन होने के बाद भी मनुष्य उनमें आसक्त न हो तो समझना कि बुद्धि का बल विकसित हो रहा है ।

दूसरा- भगवान के प्रति, सत्शास्त्रों और सत्पुरुषों के प्रति प्रीति का विकास हो तो समझो बुद्धि ठीक विकसित होने के रास्ते है ।

तीसरा लक्षण है, धीरता-वीरता आयेगी, अति भावुकता नहीं होगी । अति भुखमरी अथवा अति आहार नहीं करेगा ।

चौथा है, मानसिक अशांति नहीं रहेगी ।

पाँचवाँ लक्षण है, गहरे ध्यान में कभी-कभी कुछ दिव्य अनुभूतियाँ होने लगेंगी चित्त में और समता बढ़ती जायेगी । विचार साकार होने लगेंगे, संकल्प फलने लगेंगे । अपनी इच्छापूर्ति हो जाय और दूसरे के ऊपर कृपादृष्टि हो तो उसकी भी इच्छापूर्ति हो जाय ऐसा इच्छापूर्ति का सामर्थ्य आ जायेगा । ईश्वर के बारे में, शास्त्र के बारे में, किसी घटना के बारे में संदेह हो तो शुद्ध हृदयवाले ध्यानस्थ होकर इसका समाधान पा लेते हैं ।

छठी बात, प्रार्थना में बैठोगे तो आपकी प्रार्थना इष्ट तक, सद्गुरु तक बिल्कुल पहुँची हुई आपको महसूस होगी ।

धारणाशक्ति बढ़ने से आपके शरीर में हलकापन लगेगा । वाणी मधुर और आकर्षक हो जायेगी । चित्त शांत रहेगा । सुख-दुःख सपना है और चैतन्यस्वरूप, ब्रह्मस्वभाव अपना है ऐसा मानोगे । भविष्य की घटनायें आपके आगे प्रगट होने लगेंगी, व्यक्तित्व में निखार आयेगा तथा व्यक्तित्व का अहंकार विसर्जित होने लगेगा । सारी सफलताओं का मूलमंत्र है बुद्धि का विकास !

पापं प्रज्ञां नाशयति क्रियमाणं पुनः पुनः ।।

पुण्यं प्रज्ञां वर्धयति क्रियमाणं पुनः पुनः ।। (महाभारत, उद्योग पर्वः 35.61.62)

बार-बार पाप करने से बुद्धि दब्बू हो जाती है, नष्ट हो जाती है तथा बार-बार पुण्यकर्म करने से प्रज्ञा का विकास होता है और बुद्धि विलक्षण लक्षणों से सम्पन्न होती है । मनुष्य की बुद्धि जितनी ऊँची होती है उतना वह महान होता है और बुद्धि जितनी छोटी होती है उतना वह छोटा होता है ।

स्रोतः ऋषि प्रसाद, मार्च 2020, पृष्ठ संख्या 4 अंक 327

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

हमारी संस्कृति एवं परम्पराएँ


देवी-देवताओं के रूप एवं वेशभूषाएँ विविध क्यों ?

देवी-देवताओं के अलग-अलग रूप व उनकी विविध वेशभूषा उनके विशिष्ट गुण दर्शाते हैं । भगवान विष्णु जी सृष्टि के पालनकर्ता होने से चतुर्भुजरूप हैं । प्रलयकर्ता होने से भगवान शंकर जी का तीसरा नेत्र अग्निस्वरूप है । माँ सरस्वती विद्या की देवी होने से हाथों में वीणा-पुस्तक धारण किये हुए तथा माँ काली दुष्टों की संहारक होने से गले में मुंडमाला पहने हुए दिखती हैं । गणपति जी बुद्धिप्रदाता होने से बड़े सिरवाले तथा विघ्न-विनाशक होने से लम्बी सूँडवाले हैं । ये सारी रूप विविधताएँ देवी-देवताओं के विशिष्ट दैवी गुणों को प्रकट करती हैं ।

श्रीचित्र अथवा मूर्ति की पूजा क्यों ?

भगवान व सदगुरु के श्रीचित्र अथवा मूर्ति को ईश्वर का, सद्गुरु का प्रतीक माना जाता है । मन को एकाग्र करने के लिए मूर्ति अथवा श्रीचित्र बहुत लाभकारी है । साधक प्रतिमा में अपने इष्टदेव या गुरुदेव के दर्शन करके हृदय में उनके गुणों का स्मरण करता है । धीरे-धीरे जब उनका श्रीचित्र हृदय में अंकित हो जाता है तब बाह्य श्रीचित्र की आवश्यकता नहीं रहती । साधक को समझ में आने लगता है कि मेरे इष्ट, मेरे गुरुदेव केवल एक श्रीचित्र में ही नहीं हैं बल्कि वे तो सर्वव्यापक हैं, सत्-चित्-आनंदस्वरूप हैं । इस प्रकार पूजन-अर्चन साकार से निराकार की ओर जाने का एक साधन है ।

अथर्ववेद (कांड 2, सूक्त 13, मंत्र 4) में प्राण-प्रतिष्ठा के लिए प्रार्थना हैः हे भगवन् ! आइये और इस प्रतिमा में अधिष्ठित हो जाइये ।

ऐसी दृढ़ भावना व विश्वास रखें कि मानो ईश्वर या सद्गुरु प्रत्यक्षरूप से हमारे सामने विराजमान हैं । हम नित्य उनका धूप दीप से पूजन आदि करें अथवा मानस-पूजन करें तो ईश्वरीय शक्ति का प्रत्यक्ष सान्निध्य हमें प्राप्त होता है ।

जैसे श्री रामकृष्ण परमहंस जी माँ काली की पूजा उपासना में इतने तल्लीन हो जाते थे कि माँ प्रत्यक्ष दर्शन देकर उनसे बातचीत करती थीं तथा उनके हाथ से प्रसाद भी पाती थीं । मीराबाई भगवान श्रीकृष्ण की प्रतिमा से इतनी तो तदाकार हो गयीं कि सदेह प्रतिमा में समा गयीं ।

पूज्य बापू जी के सत्संग में आता हैः “बहती हुई नदी, सागर, चन्द्रमा, आकाश, प्रकृति या किसी वस्तु को अथवा भगवान या सद्गुरु के मुखमंडल को एकटक देखते-देखते मन शांत हो जाय तो इसे ‘रूपस्थ ध्यान’ कहते हैं । हम पहले भगवान की मूर्ति का ध्यान करते थे । जब गुरु जी मिल गये तो सारे भगवान गुरु-तत्त्व में ही समा गये । डीसा में हमारा साधना का कमरा कोई खोलकर देखे तो गुरु जी की प्रतिमा ही होगी बस ।

ध्यानमूलं गुरोर्मूर्तिः……

भगवान के चित्र तो चित्रकारों ने बनाये हैं । उस समय कोई कैमरा भी नहीं था । चेन्नई का चित्रकार भगवान को साँवला बनायेगा क्योंकि चेन्नई के लोग काले हैं । लंदनवाला बनायेगा तो भगवान के चित्र को गोरा-गोरा बनायेगा । भारतवाला बनायेगा तो गेहुँए वर्ण का बनायेगा । आखिर भगवान वास्तव में कैसे हैं ? वे मनुष्य की बुद्धि से परे हैं । मन को एकाग्र करने के लिए भगवान की मूर्ति तो कल्पित है । गुरु की मूर्ति कल्पित नहीं प्रत्यक्ष है और गुरु का श्रीचित्र कैमरे से लिया गया है । गुरु जी का सत्संग, गुरु जी का चिंतन और मन ही मन उनके साथ वार्तालाप करने से उनका स्वभाव और गुण हममें आयेंगे ।”

पूज्य बापू जी के श्रीचित्र के नित्य पूजन-अर्चन तथा श्रीचित्र पर त्राटक करते हुए भावपूर्ण तादात्म्य करने से अनगिनत शिष्यों-भक्तों की बहुआयामी उन्नति हुई है । श्रीचित्र से प्रेरणा मिलना, दिव्य सुगंध आना, जल का बहना  जैसे कई दिव्य अनुभव भी भक्तों को होते रहते हैं ।

बापू जी के करकमलों से प्रज्वलित हुई अखंड ज्योति घर-घर जाती है । वहाँ पाठ, सत्संग, भजन-कीर्तन आदि होता है, जिससे वहाँ का माहौल शांत व भक्तिमय बनता है । इन कार्यक्रमों में कई बार लोगों को बापू जी की उपस्थिति का दिव्य अनुभव होता है । मुरादाबाद से प्रज्वलित हुई ज्योति कई गाँवों, शहरों व राज्यों में विस्तृत हो चुकी है । असंख्य शिष्यों-भक्तों को दैवी प्रेरणा मिली है, रोगों कष्टों से मुक्ति मिली है  तथा अनेकों के प्राणों की रक्षा हुई है । लौकिक लाभ हुए हैं व आध्यात्मिक उन्नति भी हुई है ।

स्रोतः ऋषि प्रसाद, नवम्बर 2019,  पृष्ठ संख्या 24 अंक 323

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

समय रहते उनसे जगदीश्वर की मुलाकात का पाठ पढ़ लें-पूज्य बापू जी


एक बार सूफी संत मौलाना जलालुद्दीन अपने शिष्यों के बीच बैठे थे । सब कीर्तन ध्यान की मस्ती में मस्त थे । किसी कॉलेज के प्रोफेसर अपने मित्रों के साथ घूमते-घामते वहाँ आ पहुँचे । उन्होंने सुना था कि ‘यहाँ ध्यान, साधना कराने वाले और आत्मविद्या का प्रसाद बाँटने वाले एक अलमस्त फकीर और उनके शिष्य रहते हैं ।’ वे लोग कुतूहलवश ही  वहाँ जा पहुँचे ।

देखा कि मौलाना 50-60 साल की उम्र के लगते हैं और अपने शिष्यों को आत्ममस्ती में मस्त बना रहे हैं । कोई नाच रहा है, कोई हँस रहा है, कोई काँप रहा है, कोई घूम रहा है, कोई चुप होकर बैठा है ।

यह सब देखकर उन्होंने अपनी मति से संत को और उनके व्यवहार को तौलना शुरु किया ।

एक ने कहाः “अजीब फकीर हैं ये ! किस ढंग से सबको मस्त बना रहे हैं !”

दूसरे ने कहाः “अरे ! यह आदमी खतरनाक मालूम होता है । सबको पागल बना रहा है ।”

तीसरे ने कहाः “यह कोई ध्यान है ? ध्यान में कभी हिलचाल होती है ? नाचना-गाना होता है ? ध्यान तो चुपचाप बैठकर किया जाता है ।”

चौथे ने कहाः “कुछ भी हो लेकिन ये लोग मस्ती तो ले रहे हैं । ध्यान कैसा होता है, यह तो हमें पता नहीं पर ये लोग कुछ अजीब मस्ती में मस्त हैं । इनका रोम-रोम खुशी की खबरें दे रहा है ।”

तब किसी ने कहाः “जिस विषय का पता न हो उस विषय में बोलना बेवकूफी है । चलो, बेकार में समय मत गँवाओ ।”

उस वक्त वे मूर्ख लोग अपना-अपना अभिप्राय देकर चलते बने । फिर कुछ महीनों के बाद स्कूल-कॉलेज की छुट्टियाँ आयीं । तब उनको हुआः ‘चलो, वहीं चलें ।’ वे लोग फिर से गये पर शिष्य होकर नहीं, साधक हो के नहीं, केवल दर्शक हो के गये ।

जो लोग दर्शक होकर महापुरुषों के द्वार पर जाते हैं, उनकी जैसी-जैसी मान्यताएँ होती हैं वैसा-वैसा अर्थ वे निकालते हैं । वे लोग संत-दर्शन का या संत के ज्ञान का कुछ फायदा नहीं ले पाते हैं । जो लोग प्यास लेकर जाते हैं, जिज्ञासा ले के जाते हैं उनमें कुछ सात्त्विकता होती है जिससे ऐसे लोगों को लाभ भी होता है ।

प्रोफेसर और उनके साथी विद्वता का भूत अपनी खोपड़ी में रखकर संत के पास पहुँचे । इस बार उन्होंने देखा कि संत के सामने लोग बड़ी शांति से बैठे हैं । न कोई नाच रहा है, न गा रहा है, न हँस रहा है, न रो रहा है, न काँप रहा है, न चिल्ला रहा है । जलालुद्दीन भी मौन हैं, शांत हैं ।

तब उस टुकड़ी के मूर्खों ने अपना अभिप्राय देना शुरु कर दियाः “हाँ, अब ये लोग ध्यान में हैं । अब जलालुद्दीन और उनके शिष्यों को कुछ अक्ल आयी । पहले तो ये बिगड़े हुए थे, अब सुधर गये हैं ।

जो लोग खुद बिगड़े हुए हैं उनको ही साधक लोग, भक्त लोग बिगड़े हुए दिखते हैं । ऐसे लोग ‘रॉक एंड रोल’ में नाचेंगे, फिल्म की पट्टिया  देखकर तो हँसेगे-रोयेंगे लेकिन भगवान के लिए भाव में आकर न हँसेंगे, न रोयेंगे, न नाचेंगे । वहाँ अपने को सभ्य समझेंगे और भगवान के लिए हँसना, रोना, नाचना असभ्यता मानेंगे । वे बेचारे अंदर की मस्ती लेने की कला ही नहीं जानते हैं ।

ऐसे ही प्रोफेसर और उनके साथियों ने, बेचारों ने अपना मत दियाः “हाँ, अब ठीक है । अब चुप होकर बैठे हैं । महाराज भी चुप हैं, लोग भी चुप हैं, अच्छा है । अब ये लोग सुधर गये हैं । अब साधना करते रहेंगे, ध्यान करते रहेंगे तो कभी-न-कभी परमात्मा को पा लेंगे ।”

तब किसी ने कहाः “वह ठीक था या यह ठीक है, ऐसा कहना ही ठीक नहीं है । वैसे ही पहले से अपने पाप ज्यादां कि हम इन लोगों की तरह मस्ती में मस्त नहीं हो पाते हैं, ऊपर से संतों और साधकों के संबंध में अभिप्राय देकर पाप का बोझ बढ़ाना उचित नहीं है । हमें चुप रहना चाहिए ।”

किसी ने कहाः “चलो, बेकार की बातों में समय मत गँवाओ ।” उस वक्त भी वे चले गये पर मौका मिला तो आये बिना नहीं रह पाये । अब की बार देखा तो जलालुद्दीन अकेले हैं । आकाश की ओर उनकी निगाहें हैं । उनके रोम-रोम से चैतन्य की मस्ती बिखर रही है । उनके अस्तित्व से मौन (शांति) और आनंद की खबरें मिल रही हैं ।

…..उसे फिर कुछ सीखना नहीं पड़ता

प्रोफेसर उनके सामने आकर बैठे । उन्होंने मौलाना से पूछाः “बाबा जी ! सब कहाँ गये ? आपके भक्त और शिष्य, जो आपके साथ रहते थे, वे सब चले गये क्या ?”

जलालुद्दीन बोलेः “हाँ, मुझे जो देना था, वह मैंने दे दिया । उन्हें जो पाना था, वह उन्होंने पा लिया । मुझे जो पाठ पढ़ाना था, पढ़ा दिया । हमारे कॉलेज के दिन पूरे हो गये । अब छुट्टियाँ चल रही हैं ।”

“अभी हमारे कॉलेज की छुट्टियाँ तो पड़ी नहीं हैं ।”

“तुम्हारे अज्ञानियों के स्कूल-कॉलेज में तुम 15 साल तक विद्यार्थियों की खोपड़ी में कचरा भरते रहते हो, उन्हें हर साल छुट्टियाँ देते हो फिर भी उनकी छुट्टी नहीं होती है । वे कहीं-न-कहीं बँधे रहते हैं । परंतु यहाँ जो आता है और यहाँ के पाठ ठीक से पढ़ लेता है उसकी तो सदा के लिए छुट्टी हो जाती है, साथ ही उसे जन्म-मरण के चक्कर से भी छुट्टी मिल जाती है । हमारा ज्ञान ऐसा है ! विद्यार्थी तुम्हारे पाठ तो हजार जन्म पढ़ता रहे फिर भी उसकी बेड़ियाँ नहीं टूटतीं । हमारा पाठ जो एक बार सीख ले उसे फिर कुछ सीखना नहीं पड़ता । अँगूठाछाप व्यक्ति भी हमारा पाठ पढ़े तो अच्छे-अच्छे, तुम जैसे पढ़े हुए लोगों को भी पढ़ाने की योग्यता पा लेता है । वह चाहे निर्धन दिखे पर कइयों को धनवान बनाने का सामर्थ्य रखता है ।”

प्रोफेसर एकटक जलालुद्दीन की ओर निहार रहे थे । जलालुद्दीन जो बोल रहे थे वह केवल भाषा नहीं थी, भाषा के पीछे कुछ सत्य था, तत्त्व का अनुभव था ।

लोग समझते हैं कि पैसे हों, सत्ता हो या लोगों में प्रतिष्ठा हो तो ही सुखी जीवन गुजारा जा सकता है । पैसे के बिना सुख नहीं मिल सकता, सुधार नहीं हो सकता, सेवा भी नहीं हो सकती । लेकिन वे लोग भ्रांत मनोदशा में जी रहे हैं ।

जलालुद्दीन ने प्रोफेसर को कहाः “मेरा पाठ पढ़ने वाला व्यक्ति जहाँ कहीं जायेगा, जो कुछ करेगा उसके लिए शुभ हो जायेगा । जिन वस्तुओं को देखेगा वे प्रसाद हो जायेंगी । वह जितने दिन जियेगा उतने दिन उसके लिए मानो हर दिन दीवाली और हर रात पूनम हो जायेगी । ऐसा पाठ पढ़ाकर अब मैं विश्रांति ले रहा हूँ ।”

अगर सोचने में रह गये तो चूक गये…..

वे प्रोफेसर तो पढ़े-लिखे व्यक्ति थे । कुछ सोचकर वे नम्रता से बोलेः “महाराज ! हम भी आपसे पढ़ना चाहते हैं । हमें भी आप पाठ पढ़ाइये ।”

जलालुद्दीन बोलेः “अब मेरे पास समय नहीं है । तुम कई बार यहाँ आते रहे….. सब देखते रहे । परंतु तब मेरे पाठ पढ़ने की तुम लोगों में कोई उत्सुकता नहीं थी । अब मैंने अपना काम निपटा लिया है । अब मैं आखिरी क्षणों के इंतजार में कुछ दिन बिता दूँगा । फिर इस संसार के शरीररूपी चोले को छोड़कर अपने आत्मा में लीन हो जाऊँगा । वक्त यूँ ही चला गया, तुम समझ नहीं  पाये । जगत की विद्या पढ़ाने वाले प्रोफेसर तो लाखों-लाखों मिल जायेंगे किंतु जगदीश्वर की मुलाकात का पाठ पढ़ाने वाले मुर्शिद (सद्गुरु) तो कभी-कभी, कोई-कोई विरले ही समाज के बीच आते हैं । वे जब आते हैं तो श्रद्धा-भक्तिवाले कुछ लोग उनसे जितनी जिसकी श्रद्धा-निष्ठा होती है उतना-उतना पा लेते हैं और बाकी के वैसे ही रह जाते हैं ।”

आप स्टेशन पर पहुँचे हो और रेलगाड़ी भी उस समय खड़ी हो…. अगर आप कहीं जाना चाहते हो तो समय रहते ही, रेलगाड़ी जब खड़ी हो तब उसमें बैठ जाना चाहिए । अगर सोचने में रह गये तो चूक गये । रेलगाड़ी रवाना होने की तैयारी में हो तब तक भी बैठ सकते हो । तुम जहाँ कहीं जाना चाहते हो वहाँ पहुँच सकते हो परंतु रेलगाड़ी चली जाय उसके बाद तो फिर सिर कूटना ही रहेगा ।

ऐसे ही प्रोफेसर बेचारे सोचने में ही रह गये । आये तो सही संत के पास….. दो बार, तीन बार, चार बार…. पर ऐसे-के-ऐसे ही रह गये । सब आपस में एक-दूसरे को दोष देने लगेः ‘तूने ऐसा कहा…. तूने वैसा कहा….।’ जब संत के पास समय नहीं रहा तब आये तो फिर उनके हाथ सिर कूटना ही रहा । ऐसे लोगों के लिए कहावत सार्थक होती है कि अब पछताये होत क्या, जब चिड़िया चुग गयी खेत ।

उस समय तो दर्शक बनकर आये थे । अगर साधक बन के, जिज्ञासु बन के आते, भगवद्ध्यान, सत्संग और भगवन्नाम रूपी गाड़ी में बैठ जाते तो भवसागर से पार हो जाते । भवसागर से पार नहीं भी होते तो भवसागर से पार होने की कुछ कला ही सीख लेते । इतना भी नहीं होता तो सत्संगियों के बीच बैठकर सत्संग-कथा सुनते तो कुछ समझ का विकास होता, कुछ पाप मिटा सकते थे । पर जो लोग अपने को समझदार मानते हैं वे सत्संग में नहीं बैठ सकते । जो लोग जानते हैं कि अपनी समझ से भी अधिक समझ है, अपने सुख से भी विशेष सुख है और उसे पाने में अपने समय का सदुपयोग कर लेना चाहिए-ऐसी जिनकी सन्मति होती है, वे ही लोग ब्रह्मवेत्ता संतों के सान्निध्य में शांति और आनंद का अनुभव कर सकते हैं । वे ही संतों के सान्निध्य का लाभ लेकर परमात्मप्राप्ति की चल पड़ते हैं और अपने मनुष्य-जन्म को सार्थक कर लेते हैं ।

स्रोतः ऋषि प्रसाद, अक्तूबर 2019, पृष्ठ संख्या 4-6 अंक 322

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ