Tag Archives: Gurupoornima

Gurupoornima

यज्ञ विधि


 

हवन विधि

यज्ञ कर्म विधि

आचमन-

ॐ केशवाय नमः, ॐ नारायणाय नमः, ॐ माधवाय नमः, ॐ  ऋषिकेशाय नमः इति हस्तप्रक्षालनम्।

पवित्रिकरण-

ॐ अपवित्रः पवित्रो वा सर्वावस्थां गतोऽपि वा।

यः स्मरेत् पुण्डरीकाक्षं स बाह्याभ्यंतरः शुचिः।।

तिलक-

ॐ स्वस्तिस्त्वया विनाशाख्या पुण्य कल्याण वृद्धिदा।

विनायकं प्रिया नित्यं त्वां च स्वस्तिं ब्रुवंतुनः।।

रक्षासूत्र (मौली) बंधन- (हाथ में)

येन बद्धो बलिराजा दानवेन्द्रो महाबल।

तेन त्वां प्रतिबध्नामि रक्षे माचल माचल।।

दीप पूजन- पूर्णाहुति

भो दीप देवरूपस्त्वं कर्म साक्षीह्यविघ्नकृत्।

यावत् पूजासमाप्तिः स्यात् तावत् त्वं सुस्थिरो भव।।

ॐ दीपदेवताभ्यो नमः, ध्यायामि, आवाहयामि, स्थापयामि, सर्वोपचारैः गंधाक्षतपुष्पं समर्पयामि।।

देवता स्मरण- हाथ जोड़कर

श्रीमन्महागणाधिपतये नमः। श्रीगुरुभ्यो नमः। इष्टदेवताभ्यो नमः। कुलदेवताभ्यो नमः। ग्रामदेवताभ्यो नमः। वास्तुदेवताभ्यो नमः। स्थानदेवताभ्यो नमः। लक्ष्मीनारायणाभ्यां नमः। उमामहेश्वाराभ्यां नमः। वाणीहिरण्यगर्भाभ्यां नमः। शचीपुरन्दनाभ्यां नमः। मातृपितृचरणकमलेभ्यो नमः। सर्वेभ्यो देवेभ्यो नमः। सर्वेभ्यो ब्राह्मणेभ्यो नमः।

पूजन का संकल्प- हाथ में जल-पुष्प लेकर संकल्प करेंगे।

ॐ विष्णुर्विष्णुर्विष्णुः श्रीमद्भगवतो महापुरुषस्य विष्णोराज्ञया प्रवर्तमानस्य, अद्य श्रीब्राह्मणोअह्नि द्वितिये परार्धे श्रीश्वेतवाराहकल्पे, सप्तमे वैवस्वतमन्वन्तरे, अष्टाविंशतितमे युगे कलियुगे, कलि प्रथम चरणे, भूर्लोके, जम्बूद्वीपे, भारतवर्षे, …… प्रदेशे ….. नगरे …… ग्रामे  मासानां मासोत्तमेमासे महामांगलिक मासे ….. मासे शुभे ….. पक्षे ….. तिथौ वासराधि ….. वासरे अद्य अस्माकं सद्गुरु देव संत श्री आशाराम जी बापूनां आपदा निवाराणार्थे आयुः, आरोग्य, यशः, कीर्ती, पुष्टि तथा आध्यात्मिक शक्ति वृद्धि अर्थे ॐ ह्रीं ॐ मंत्रस्य हवन काले संकल्पं अहं करिष्ये।

गुरुपूजन- हाथ में अक्षत पुष्प लेकर सदगुरु देव का ध्यान करें-

गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः…….. तत्पदं दर्शितं येन तस्मै श्रीगुरवे नमः।।

कलश पूजन- हाथ में अक्षत-पुष्प लेकर कलश में वरुणदेवता तथा अन्य सभी तीर्थों का आवाहन करेंगे-

ब्रह्माण्डोदरतीर्थानि करैः स्पृष्टानि ते रवे।

तेन सत्येन में देव तीर्थं देहि दिवाकर।।

(अक्षत पुष्प कलश पर चढ़ा दें।)

यज्ञ कर्म प्रारंभ

रक्षा विधान-

बायें हाथ में अक्षत लेकर दायें हाथ से दशों दिशाओं में छाँटते हुए निम्न मंत्र  बोलें।

अपक्रमन्तु भूतानि पिशाचाः सर्वतो दिशः।

सर्वेषामविरोधेन यज्ञकर्म समारम्भे।।

अग्नि स्थापन- यज्ञकुंड पर घृत की कटोरी के पास जल की कटोरी स्थापित करें।

इस मंत्र के उच्चारण से अग्नि प्रज्वलित करें-

अग्निं प्रज्वलितं वन्दे जात वेदं हुताशनम्।

हिरण्यवर्णममलं समिद्धं विश्वतोमुखम्।।

इसके बाद- ॐ गं गणपतये नमः स्वाहा। (8 आहुतियाँ)

ॐ सूर्यादि नवग्रह देवेभ्यो नमः स्वाहा। (1 आहुति) दें।

पश्चात – ॐ ह्रीं ॐ मंत्र की 11 माला आहुतियाँ दें।

कटोरी में बची हुई पूरी सामग्री को निम्न मंत्रों के साथ तीन बार में ही डाल दें-

ॐ श्रीपतये स्वाहा।

ॐ भुवनपतये स्वाहा।

ॐ भूतानांपतये स्वाहा।

ॐ अग्नये स्विष्टकृते स्वाहा इदं अग्नये स्विष्टकृते न मम।

पूर्णाहुति होम- नारियल को होमें।

पूर्णमदः पूर्णमिदं,  पूर्णात् पूर्णमुदच्यते।

पूर्णस्य पूर्णमादाय, पूर्णमेवावशिष्यते।। ॐ शांतिः शांतिः शांतिः।

वसोधारा- यज्ञकुंड में घृत की धार करें।

आरती- ज्योत से ज्योत जगाओ……

कर्पूर गौरं करुणावतारं संसारसारं भुजगेन्द्रहारं

सदावसन्तं हृदयारविंदे भवं भवानि सहितं नमामि।

दोहा-

साधक माँगे माँगणा, प्रभु दीजो मोहे दोय।

बापू हमारे स्वस्थ रहें, आयु लम्बी होय।।

घृतावघ्राणम्- यज्ञकुंड पर जलपात्र में टपकाया गया घृत दोनों हथेलियों पर रगड़ लें। यज्ञकुंड पर तपा कर सुगंध लें।

भस्माधारणम्- भस्म बापू जी को लगाकर स्वयं लगायें।

पुष्पांजलि-

कायेन वाचा मनसेन्द्रियैर्वा, बुद्धयात्मनावा प्रकृतेः स्वभावात्।

करोमि यद् यद् सकलं परस्मै, श्रीसद्गुरुदेवायेति समर्पयामि।।

ॐ श्री सद्गुरु परमात्मने नमः। मन्त्रपुष्पाञ्जलिं समर्पयामि।

ततो नमस्कारम् करोमि।

प्रदक्षिणा- सभी लोग यज्ञकुंड की परिक्रमा करें।

यानि कानि च पापानि जन्मान्तर कृतानि च।

तानि सर्वाणि नश्यन्तु प्रदक्षिणः पदे-पदे।।

साष्टांग प्रणाम- सभी साष्टांग प्रणाम करेंगे।

क्षमा प्रार्थना- हाथ जोड़कर सभी क्षमा प्रार्थना करें।

ॐ आवाहनं न जानामि, न जानामि तवार्चनम्।

विसर्जनं न जानामि, क्षमस्व परमेश्वर !।।

मंत्रहीनं क्रियाहीनं, भक्तिहीनं सुरेश्वर !

यत्पूजितं मया देव ! परिपूर्णं तदस्तु में।।

विसर्जनम्- पूजन के लिए आवाहित देवी-देवताओं के विसर्जन की भावना करते हुए हाथ में अक्षत लेकर देव स्थापन पर चढ़ायेंगे।

ॐ गच्छ गच्छ सुरश्रेष्ठ, स्वस्थाने परमेश्वर !

यत्र ब्रह्मादयो देवाः, तत्र गच्छ हुताशन ! ।।

जयघोष करें। ‘तं नमामि हरिं परम्।’ -3

।। पूर्णाहुति।।

‘तं नमामि हरिं परम्।’ -3

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

साधना में तीव्र उन्नति हेतु 6 संकल्प


गुरुपूनम महोत्सव साधकों को अगली ऊँचाइयों पर लाने का महोत्सव है। इस गुरुपूनम का नया पाठ। पहला, ब्रह्म मुहूर्त में तुम उठते होंगे। जो नहीं उठता होगा वह भी उठने का इस दिन से पक्का संकल्प करे कि ‘मैं सुबह ब्रह्ममुहूर्त में उठूँगा।’ सूरज उगने से सवा दो घंटे पहले से ब्रह्ममुहूर्त शुरु हो जाता है। फिर आप सूर्योदय से दो घंटा, डेढ़ घंटा या एक घंटा भी पहले उठते हैं तो ब्रह्ममुहूर्त में उठे। ब्राह्ममुहूर्त में उठने से भाग्योदय होता है, आरोग्य, आयुष्य बढ़ता है और नीच योनियों से सदा के लिए पिंड छूटता है।

दूसरा प्रण, उत्तर या पूर्व दिशा की तरफ बैठकर ध्यान-भजन, साधना करना। इससे दिव्य तरंगें साधक को मदद करती हैं।

तीसरा संकल्प, आप जप करते हैं तो एक प्रकार की शक्ति पैदा होती है। अतः जब ध्यान-भजन करें तो नीचे विद्युत का कुचालक आसन बिछा हो, जिससे आपके जप की जो विद्युत है उसे अर्थिंग न मिले। आसन ऐसा हो कि कभी थकान महसूस हो तो आप लेट के शरीर को खींचकर ढीला छोड़ सकें और 2-5 मिनट शवासन में चले जायें। पूजा के कमरे में ऐसा वातावरण हो कि उसमें और कोई संसारी व्यवहार न हो। इससे वह कमरा साधन-भजन की तरंगों से तरंगित रहेगा। कभी भी कोई मुसीबत आये या कुछ पूछना है तो जैसे मित्र से टेलिफोन पर बात करते हैं ऐसे गुरु और परमात्मा रूपी मित्र से सीधी बात करने का आपका एक साधन मंदिर बना दो। उसमें हो सके तो कभी ताजे फूल रखो – सुगंधि पुष्टिवर्धनम्। ताकि वे ज्ञानतंतुओं को पुष्ट कर दें। परफ्यूम तो काम केन्द्र को उत्तेजित करते हैं लेकिन ये फूल, तुलसी पुष्टिदायी है।

चौथी बात, त्रिबंध (मूलबंध, जालंधर बंध, उड्डीयान बंध) करके प्राणायाम करेंगे, आज से यह पक्का वचन दो। जो 3 करते हैं वे 4-5… ऐसे बढ़ाने का प्रयत्न करें। 10 तक करें। (किसी को फेफड़ों, हृदय आदि की कोई बीमारी हो तो वैद्य की सलाह लेकर प्राणायाम करें।)

पाँचवाँ संकल्प, साधन करते समय जब भी मौका मिले, जीभ को तालू में लगाना या तो दाँतों के मूल में लगाना। इससे आप जिस किसी के प्रभाव में नहीं आयेंगे। आपके प्रभाव में निगुरे लोग आयेंगे तो उनको फायदा होगा लेकिन आप उनके प्रभाव में आयेंगे तो आपको घाटा होगा। हमारे साधक किसी निगुरे के प्रभाव में न आयें। मैं तो कहता हूँ कि सगुरों के प्रभाव में भी न आयें। जीभ तालू में लगाने से यह काम हो जायेगा।

मनुष्य जाति का बड़े-में-बड़ा शत्रु है सुख का लालच और दुःख का भय। जानते हैं लेकिन सुख के लालच से जाना अनजाना करके गलत काम कर लेते हैं, फिर परिणाम में बहुत चुकाना पड़ता है। दुःख के भय से बचना हो तो जब भी दुःख का भय आये अथवा कोई डाँटे, उस समय जीभ तालु में लगा दो।

आबू की पुरानी बात है। किन्हीं संत से हम मिलने गये थे। वे बोलेः “महाराज जी ! यहाँ रात को शेर आते हैं और बंदरों को ऊपर उठा कर ले जाते हैं।”

मैंने कहाः “बंदर ऊपर होते हैं और शेर नीचे, फिर वे कैसे उठाते हैं ?”

“शेर दहाड़ता है तो बंदर डर के मारे गिर पड़ते हैं और शेर उन्हें उठाकर ले जाते हैं।” तो भय प्राणी के लिए हानिकारक है।

किसी भी बॉस के पास जाते हैं या इंटरव्यू देने जाते हैं अथवा कहीं जाते हैं और आप डरते हैं तो विफल हो जायेंगे। जीभ तालु में लगा के उसके सामने बैठो, उसका प्रभाव आप पर नहीं पड़ेगा, आपका चयन करने लेगा।

जीभ तालु में लगाना इसको ‘खेचरी मुद्रा’ बोलते हैं। इससे दूसरे फायदे भी होते हैं और एकाग्रता में बड़ी मदद मिलती है।

छठा साधन, कभी बैठे तो श्वास अंदर गया तो ॐ या राम, बाहर आया उसको गिना, श्वास अंदर गया तो आरोग्य, बाहर आया गिना, ऐसे यदि 108 तक श्वास गिरने का अभ्यास बना लेते हैं तो सफलता, स्वास्थ्य और खुशी तुम्हारे घर की चीज हो जायेगी। कौन नहीं चाहता है सफलता, स्वास्थ्य, खुशी ? सब चाहते हैं। जिन्होंने गुरुमंत्र लिया है उनको यह विद्या प्रसाद रूप में दे रहे हैं तो फलेगी। यदि इसकी महिमा सुनकर निगुरे करेंगे तो उनका उत्थान अपने बल से होगा और साधक गुरु का प्रसाद समझ के लेंगे तो उसमें भगवान की और गुरु की कृपा भी काम करेगी।

स्रोतः ऋषि प्रसाद, जुलाई 2016, पृष्ठ संख्या 11,12 अंक 283

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

संसार-बंधन से मुक्त होने का उपायः सद्गुरु-सेवा


 

सदगुरु की महिमा बताते हुए भगवान श्री कृष्ण कहते हैं- “हे उद्धव ! सदगुरु के लक्षण बताते समय शब्द कम पड़ जाते हैं। जो सनातन पूर्णब्रह्म ही हैं, उन्हें लक्षण की क्या आवश्यकता है ? फिर भी एक लक्षण बताने का स्फुरण आता है कि उनमें सर्वत्र शांति दिखाई देती है। उद्धव ! वह शांति ही समाधान है, ब्रह्मज्ञान है और पूर्णब्रह्म है !”

सदगुरु की विलक्षणता सुनकर शिष्य की कैसी दशा होती है, इस स्थिति का वर्णन करते हुए श्रीकृष्ण कहते हैं- “सदगुरु की ऐसी स्थिति जानकर शिष्य के मन में गुरुभक्ति के प्रति प्रीति और भी अधिक बढ़ गयी। इसलिए वह गुरु की खोज में निकल पड़ा, उसका अंतःकरण उसे विश्राम नहीं करने देता था। आठों पहर वह गुरु के लक्षणों का ही चिंतन करने लगा, ‘उस सर्वसमर्थ को मैं कब देख पाऊँगा ? मेरा यह पाश कब छूटेगा ? मन को परम शांति कब प्राप्त होगी ?’ इस प्रकार वह सदगुरु के लिए पिपासा से भर गया। ‘देखते-देखते यह आयुष्य समाप्त होने को आया है लेकिन मेरी अभी सदगुरु से भेंट नहीं हो रही, यह मनुष्य-देह समाप्त होते ही सब कुछ डूब जायेगा।’ ऐसा से लगने लगता है।

गुरु का सिर्फ नाम सुनते ही वह मन से आगे भागने लगता है और उस वार्ता के ही गले लग जाता है, उसकी आतुरता इतनी बढ़ जाती है ! यदि सदगुरु से प्रत्यक्ष भेंट नहीं होती  तो वह मन से ही गुरुनाथ की पूजा करने लगता है और परम भक्ति से पूजा करते समय उसका प्रेम इतना अधिक उफन उठता है कि वह हृदय में नहीं समा पाता। नित्यकर्म करते समय भी वह एक क्षण के लिए भी गुरु को नहीं भूलता। वह निरंतर ‘गुरु-गुरु’ का जप करता रहता है। हे उद्धव ! गुरु के अतिरिक्त वह अन्य किसी का चिंतन नहीं करता। उठते-बैठते, खाते सोते समय वह मन में गुरु का विस्मरण नहीं होने देता। जाग्रत तथा स्वप्नावस्था में भी उसे गुरु का निदिध्यासन लगा रहता है। देखो ! केवल गुरु का स्मरण करते ही उसमें भूख-प्यास सहने का सामर्थ्य आ जाता है। वह घर-बाहर के सुख को भूलकर सदा परमार्थ की ही ओर उन्मुख रहता है। सदगुरु के प्रति जिसका प्रेम रहता है, उसकी आस्था प्रतिस्पर्धा से बढ़ती ही जाती है। उसे गुरु के रूप में तत्काल चिद्घन चैतन्य ही दर्शन देता है। उत्कंठा जितनी अधिक रहती है, उतनी ही भेंट अधिक निकट होती है। भेंट के लिए साधनों में विशेष उत्कंठा यही प्रमुख साधन है। अन्य कितने ही बड़े साधनों का प्रयोग क्यों न करें लेकिन आत्मज्ञान का अल्पांश भी हाथ नहीं लगेगा लेकिन यदि सदगुरु के भजन में आधी घड़ी भी लगा देंगे तो आत्मज्ञान की राशियाँ झोली में आ जायेंगी।

सदगुरु के भजन में लगने से मोक्ष भी चरणों पर आ पड़ता है। लेकिन  गुरु का भक्त उसे भी स्वीकार नहीं करता क्योंकि वह श्रीचरणों में ही तल्लीन रहता है। श्री गुरु चरणों का आकर्षण ऐसा होता है कि उसके सामने मोक्षसुख का भी विस्मरण होता है। जिनकी रुचि गुरु-भजन में नहीं होती, वे ही संसार के बंधन में पड़ते हैं। संसार का बंधन तोड़ने के लिए सदगुरु की ही सेवा करना आवश्यक है। सदगुरु की सेवा ही मेरा भजन है क्योंकि गुरु में और मुझमें कोई भेदभाव नहीं है। हे उद्धव ! इस प्रकार गुरुभक्तों की श्रद्धा कितनी असीम होती है और उन्हें गुरु-भजन के प्रति कितना प्रेम रहता है यह मैंने अभिरुचि के साथ, बिल्कुल स्पष्ट करके तुम्हें बताया है।”

(श्री एकानाथी भागवत, अध्यायः 10 से)

स्रोतः ऋषि प्रसाद, जुलाई 2015, पृष्ठ संख्या 11, अंक 271

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ